Tuesday, 25th September, 2018

चलते चलते

नरेंद्र मोदी से टिप्स लेकर इमरान खान ने अपने विरोधियों से कहा- "भारत चले जाओ!"

29, Jul 2018 By Fake Bank Officer

इस्लामाबाद. पाकिस्तान चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी के नेता बनकर उभरे इमरान खान का अब प्रधानमंत्री बनना लगभग तय है। ऐसे में विरोधी दल चुनाव में धांधली होने का आरोप लगा रहे हैं। चूंकि इमरान खान के लिए इस तरह का विरोध नया-नया है, इसलिए उन्होंने इस प्रकार के विरोध का लंबा अनुभव रखने वाले भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से फ़ोन पर कुछ टिप्स ली है। वो भी अपने विरोधियों को करारा देना चाहते हैं।

imran-khan
मुंह छिपाकर मोदीजी से बात करते इमरान खान

मोदी जी ने उन्हें पाँच सूत्रीय टिप्स दी हैं जो फॉलो करने में बहुत आसान हैं। उन्होंने अनुभवहीन इमरान को बताया कि “अपने सभी विरोधियों को बार-बार भारत का एजेंट बताकर उनकी देशभक्ति पर सवाल उठाओ! कुछ न्यूज़ चैनलों के साथ मिलकर विरोधियों को गद्दार साबित करो! फालतू मुद्दों जैसे कि नवाज़ शरीफ और बिलावल के कारनामो में जनता को उलझाए रखो! बात-बात पर जनता को भारत के नाम से डराते भी रहो! ये हो गए चार! ठीक है!”

“..अब आखिरी और सबसे ज़रूरी टिप्स! जनता को अल्पसंख्यकों के नाम पर डराना मत भूलना बेटा!” तभी उधर से इमरान की आवाज आई “लेकिन हमारे यहां तो खुद अल्पसंख्यक ही खतरे में हैं! यही कोई चालीस-पचास लोग ही बचे हैं!” -कंफ्यूज होते हुए इमरान ने कहा।

“अरे मूर्ख! अल्पसंख्यकों के वोट लेकर क्या उखाड़ लोगे! बहुसंख्यकों को डराने में ही समझदारी है! बोलो है कि नही, बोलो!” झल्लाते हुए मोदीजी ने कहा।

मोदी से मिली नसीहतों से इमरान खान दंग रह गए। ‘शुक्रिया’ अदा करने के बाद वो खुद को मोदी जी को ‘साष्टांग प्रणाम’ करने से नही रोक पाए। तुरंत ही उन्होंने एक प्रेस कांफ्रेंस आयोजित कर धांधली का आरोप लगा रहे शाहबाज़ शरीफ को गद्दार बताकर भारत चले जाने का फरमान जारी कर दिया। बचे-खुचे नेताओं को ‘रॉ’ का एजेंट बताकर इंडिया शिफ्ट हो जाने की खुली छूट दे दी।

फिर जनता को संबोधित करते हुए बोले- “मितरों! पिछले सत्तर साल का हिसाब लेकर रहेंगे इनसे! नया पाकिस्तान बनाऊंगा! ना खाऊंगा ना खाने दूंगा! बताइये नवाज़ शरीफ को जवाब देना चाहिए कि नहीं! बताइये जवाब देना चाहिए कि नही!” भीड़ ने एक स्वर में कहा ‘जवाब देना चाहिए!” और सबने ज़ोर से तालियां बजाई।



ऐसी अन्य ख़बरें