Friday, 22nd November, 2019

चलते चलते

हमें 'राफेल' के कल-पुर्जे दिखा दो, पाँच लाख रुपये में डुप्लीकेट बनाकर दे देंगे: शी जिनपिंग ने मोदीजी को दिया ऑफर

12, Oct 2019 By Ritesh Sinha

एजेंसी. प्रधानमंत्री मोदी, चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग को मामल्ल्पुरम के ऐतिहासिक मंदिर घुमाने ले गये थे, इस दौरान दोनों ने समुद्र किनारे मंदिरों का मनोरम दृश्य देखा तथा जी-भरकर फोटो भी खिंचवाए। वैसे तो ये दोनों वहाँ टहलते हुए क्या बातचीत कर रहे थे यह किसी को पता नहीं है लेकिन हमरे ख़ुफ़िया रिकॉर्डर ने सब कुछ रिकॉर्ड कर लिया है।

modi-jinping
राफेल के बारे में बात करते दोनों नेता!

हुआ यूँ कि मंदिर में घुसते ही शी जिनपिंग ने मोदी जी से पूछा कि, “और क्या हालचाल है मि. मोदी! राफेल वगैरह मिल गया कि नहीं?” इस पर मोदीजी ने जवाब दिया कि, “सब ठीक है, एक विमान आ गया है बाकि भी जल्द आ जाएगा!”

थोड़ी दूर चलने के बाद जिनपिंग ने फिर से राफेल की बात छेड़ दी- “हमारे यहाँ एक हेडफोन बनाने का कारखाना बंद हो गया है, अब वहाँ के मज़दूर बेरोज़गार हो गए हैं, अगर आप मुझे एक बार ‘राफेल’ खोलकर दिखा दें तो हम आपको यही ‘राफेल’ पाँच लाख रुपये में बनाकर दे देंगे!

मैंने सुना है कि अभी एक विमान आपको 200 मिलियन डॉलर पड़ रहा है, यही माल हम सस्ते में बनाकर दे देंगे! आपका तो फायदा ही फायदा है!” -जिनपिंग ने ऑफर दिया।

जिनपिंग की बातें सुनकर मोदी जी सकते में आ गये। उन्होंने उसे टरकाते हुए कहा- “नहीं! ऐसा नहीं हो सकता, मुझे आप लोगों के बारे में पता है, मीठी बातें करके धोखा देने वालों में से हो! चलिए आपको एक नया मंदिर दिखाता हूँ!”

ऐसा जवाब मिलने के बाद जिनपिंग थोड़ी देर तो चुप रहे लेकिन दस-बीस कदम चलने के बाद वो फिर से राफेल के मुद्दे पर वापस आ गये- “मोदीजी मैं सच कह रहा हूँ, हमारे इंजीनियर ‘राफेल’ को सिर्फ एक बार खोलकर देखेंगे! बाकी आप हम पर छोड़ दीजिए! इसमें आपका समय भी बचेगा क्योंकि 36 विमान बनाने का काम हम छः महीने में रफा-दफा कर देंगे! फ्रांसीसियों की तरह पाँच साल नहीं लगाएँगे!” -जिनपिंग ने कुर्सी पर बैठते हुए कहा।

“एक बार मना किया था ना, बार-बार एक ही बात मत कीजिए! चलिए कैमरामेन की तरफ देखिए, फोटू ले रहे हैं!” -मोदीजी ने फुसफुसाते हुए कहा और मुस्कुराने लगे। समाचार लिखे जाने तक जिनपिंग हर दस मिनट में डुप्लीकेट राफेल की बात छेड़े जा रहे थे।



ऐसी अन्य ख़बरें