Sunday, 8th December, 2019

चलते चलते

थाईलैंड में राहुल गाँधी की लोकप्रियता देखकर मोदीजी हुए हीन भावना के शिकार

05, Nov 2019 By Fake Bank Officer

बैंकाक.  थाईलैंड के तीन दिवसीय दौरे पर पधारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वैसे तो अपनी आव-भगत से काफी प्रसन्न दिख रहे हैं लेकिन एक बात उनके सीने में किसी तीर की तरह चुभे जा रही है। दरअसल, जब उन्हें पता चला कि थाईलैंड की जनता में राहुल बाबा की जो लोकप्रियता है उसके सामने वो कहीं नही ठहरते तो उनका मन भारी हो गया है।

Modi-in-space
राहुल बाबा की लोकप्रियता देखकर मोदीजी का हाल

मोदीजी को इस बात का ज़रा भी अंदाज़ा नही था कि थाईलैंड की जनता राहुल गांधी को भगवान की तरह पूजती है।

ये सिर्फ कहने की बात नहीं है, मोदी जी ने इसका प्रमाण भी अपनी आँखों से देखा है, हुआ यूँ कि एक रैली में वो अपनी आदत के अनुसार कांग्रेस और राहुल बाबा को कोस रहे थे, तभी वहाँ खड़े लोग बेकाबू हो गए और ‘गो बैक मोदी’ के नारे लगाने लगे।

“अभी तो ये लोग मुझे कान लगाकर सुन रहे थे, अब अचानक क्या हो गया? ये लोग मेरे खिलाफ नारे क्यों लगा रहे हैं?” -उन्होंने आयोजकों से पूछा। बाद में आयोजकों ने मोदीजी को बताया कि ये इंडिया नहीं है साब, यहाँ आप राहुल बाबा के खिलाफ कुछ नहीं बोल सकते, यहाँ उनकी तूती बोलती है! तब जाकर मोदीजी को यकीन हुआ।

इसी बीच वहाँ मौजूद लोगों ने टूटी-फूटी हिंदी में ‘राहुल बाबा ज़िंदाबाद’ के नारे लगाना शुरू कर दिया। राहुल बाबा की फैन फॉलोइंग देख मोदीजी के होश उड़ गए और उन्हें भाषण बीच में छोड़कर भागना पड़ा।

इसी इलाके में मसाज पार्लर चलाने वाले एक थाई युवक, सुचारेत तानेट ने फ़ेकिंग न्यूज़ को बताया कि “ये नया घर देख रहे हो, ये मैंने राहुल बाबा के पैसों से खरीदा है, वो हमारे परमानेंट ग्राहक हैं ना, सच कहूँ तो हमारा कारोबार उनकी वजह से ही चल रहा है, हम उनसे व्यक्तिगत रूप से जुड़ गए हैं!”

यहाँ तक कि राहुल जी को थाईलैंड पर्यटन का ब्रांड अम्बेसडर बनाये जाने की चर्चा चल रही है, शहर का ऐसा कोई कोना नही जहाँ राहुल बाबा ने मसाज ना करवाई हो, कितने ही घरों में चूल्हा उनकी दया से जलता है!” -तानेट ने आगे बताया।

बता दें कि थाईलैंड की अर्थव्यवस्था में मसाज सर्विस का बहुत बड़ा योगदान है और इस सर्विस की तरक्की में राहुल गाँधी का योगदान 60% से कम नहीं है।

अगर ये कहा जाए कि थाईलैंड की अर्थव्यवस्था राहुल बाबा के इर्द-गिर्द घूमती है तो अतिश्योक्ति नहीं होगी। यही कारण है कि थाईलैंड की जनता, खासकर मसाज पार्लर वाले उनके खिलाफ एक शब्द नहीं सुन सकते।



ऐसी अन्य ख़बरें