Friday, 26th April, 2019

चलते चलते

जाट-गुज्जरों को आया अमेरिका से बुलावा, बर्फ़ में ढँके रेलवे ट्रैक में आग लगाने का काम सौंपा

11, Feb 2019 By बगुला भगत

धौलपुर/वॉशिंगटन डीसी. रेल की पटरियों को उखाड़ने और उन में तोड़-फोड़ करने के जाट-गुज्जरों के हुनर का अब अमेरिका ने भी लोहा मान लिया है। इन दोनों बिरादरियों के रेलवे ट्रैक के ‘ट्रैक’ रिकॉर्ड को देखते हुए डोनाल्ड ट्रंप ने उन्हें पटरियों में आग लगाने के लिए अमेरिका आने का न्योता भेजा है।

gurjar-agitation
रेलवे ट्रैक पर अपना हुनर दिखाते गुज्जर

व्हाइट हाउस में आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में जाट-गुज्जरों को खुल्ला निमंत्रण देते हुए ट्रंप ने कहा, “आपको तो पता ही है कि हमें अपने रेलवे ट्रैक्स को ठंड से बचाने के लिए उनमें आग लगानी पड़ रही है लेकिन हमारे लोगों को आग-वाग लगाने का कोई ख़ास एक्सपीरिएंस नहीं है, इसलिए वो ये काम ढंग से नहीं कर पा रहे हैं।”

“प्राइम मिनिस्टर मोडी ने मेरे को बताया है कि इंडिया के जाट और गुज्जरों को रेलवे ट्रैक्स रिलेटेड काम का बहुत लंबा अनुभव है, इसलिए हम उन्हें इदर बुला रहा है- स्पेशल चार्टर्ड प्लेन से!” -ट्रंप ने पत्रकारों को राजस्थान के गुज्जर आरक्षण आंदोलन का एक फ़ोटो दिखाते हुए कहा।

लेकिन अमेरिका के इस क़दम से हमारे इंजीनियर बुरी तरह से बिदक गये हैं। राजू रस्तोगी नाम के एक कंप्यूटर इंजीनियर ने अपनी डिग्री में आग लगाते हुए कहा, “हमें यहाँ करोड़ों खर्च करने के बाद भी यूएस जाने का मौक़ा नहीं मिल रहा और उन देहाती गुज्जरों की बैठे-बिठाये ही लॉटरी लग गयी।”

“इससे तो अच्छा था कि हम चार साल इंजीनियरिंग में जान घिसने के बजाय रेलवे ट्रैक पर बैठने की प्रैक्टिस करते तो आज हम भी अमेरिका में होते!” -यह कहकर राजू रेलवे ट्रैक ढूँढने निकल गया।



ऐसी अन्य ख़बरें