Saturday, 17th November, 2018

चलते चलते

चमत्कार: एक साल से खराब ही नहीं हुआ है प्रिंटर, दर्शन करने उमड़ी लाखों की भीड़

26, Aug 2018 By Ritesh Sinha

गुरुग्राम. इन्फोमिस कंपनी के हेडक्वार्टर में एक ऐसा चमत्कार हुआ है जिस पर यकीन करना मुश्किल हो जाता है। कंपनी के एक कर्मचारी ने दावा किया है कि उसके प्रिंटर में एक साल से कोई खराबी नहीं आई है, प्रिंटर बेधड़क चल रही है। ना उसका सेंसर खराब हुआ है ना कार्ट्रिज का अलाइनमेन्ट बिगड़ा है। फ्यूजर की हालत भी ठीक है और सभी रोलर्स भी एक सुर में काम कर रहे हैं।

office printer
अपना प्रिंटर खोलकर दिखाता निखिल

यही वजह है कि इस ऐतिहासिक प्रिंटर को देखने के लिए लाखों की भीड़ जमा हो रही है, आसपास के सभी कंपनियों के कर्मचारी इस प्रिंटर को एक बार देख लेना चाहते हैं। भीड़ को काबू में करने के लिए अर्धसैनिक बलों की तीन टुकड़ियाँ मौके पर तैनात कर दी गई हैं।

पिछले एक साल से इस प्रिंटर को चलाने वाले निखिल श्रीवास्तव ने बताया कि “आज तक इसने कभी भी धोखा नहीं दिया मुझे! सबसे बड़ी बात ये है कि इस प्रिंटर को पूरे एक साल हो गए मेरे डेस्क पर! इससे पहले वाला तो मेंटेनेंस वालों के पास ज्यादा रहता था मेरे पास कम !” -कहते हुए निखिल ने एक टेस्ट-प्रिंट निकाला और उसे चूम लिया।

बगल वाली कंसल्टेंट फर्म में काम करने वाले हितेश पारकर भी उस प्रिंटर के दर्शन करने आए हुए थे, उन्होंने चहकते हुए बताया कि “एक बार उस अद्भुत प्रिंटर के दर्शन हो गए तो मैं समझूंगा कि धरती में जन्म लेने का कुछ तो फायदा हुआ! क्योंकि आज तक मैंने एक साफ़-सुथरा टकाटक प्रिंटर तो देखा नहीं है!”

उधर, इंफोमिस कंपनी के एकाउंट्स डिपार्टमेंट ने ‘प्रिंटर’ के दर्शन करने पर पचास रुपये का शुल्क लगा दिया है! “ऐसा क्यों किया गया?” ऐसा पूछे जाने पर बॉस मि. बग्गा ने बताया कि “वो क्या है ना, पिछले तीन सालों से कंपनी घाटे में चल रही है, बोर्ड मेम्बर्स ‘बेल-आउट’ पैकेज के लिए गली-गली भटक रहे हैं! इसी बीच यह चमत्कार हो गया तो हमने सोचा कि क्यों ना देखने वालों से पचास-पचास रुपये वसूल लिए जाएँ!” साथ ही कंपनी ने निखिल को प्रमोशन देने का भी ऐलान किया है।



ऐसी अन्य ख़बरें