Wednesday, 22nd May, 2019

चलते चलते

TikTok बैन के बाद बिना मेकअप के बच्चों को नहीं पहचान पाये घरवाले

25, Apr 2019 By किल बिल पांडे

ब्यूरो. सीन ये है कि, पंजाब का मोगा शहर, दोपहर का वक़्त है, पिंकी के घर के बाहर सुबह से ही भीड़ जमा है, घर के अंदर से हंगामे की आवाज़ें आ रही हैं, पिंकी घर के आंगन में बैठी लगातार टेसुएँ बहा रही है। पूछने पर पडोसी मज़े लेकर बताते हैं कि, “घर वालों ने पिंकी को पहचानने से इनकार कर दिया है, कल रात से यही ड्रामा चल रहा है!”

TikTok
TikTok वाली पिंकी!

ये हाल सिर्फ मोगा का नहीं है, देश के अलग-अलग हिस्सों से ऐसी ही ख़बरें आ रही हैं। समस्तीपुर के कुंजलाल को भी फत्तन ने पहचानने से इनकार कर दिया है।

कुछ स्थानों पर तो हालात को काबू में करने के लिए पुलिस की सहायता भी लेनी पड़ी है। घटनाएँ कहीं की भी हों सब में एक समानता जरूर है और वो है ‘घरवालों का अपनी ही औलादों को ना पहचानना!’

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर अमल करते हुए सरकार ने भले ही इस महामारी पर बैन लगा दिया था, लेकिन अब इस एप्प से हुए घातक परिणाम धीरे-धीरे सामने आ रहे हैं।

अचानक लागू हुए इस फैसले ने लाखों तथाकथित कंटेंट क्रिएटरों को एक झटके में बेरोजगार कर दिया था। पिंकी और उसके जैसे तमाम यूज़र, हमेशा भारी भरकम मेकअप के साथ पूरा दिन विडियो बनाते नज़र आते थे और पिछले एक-डेढ़ साल से इस रूप में अपनी जिंदगी जी रहे थे, लेकिन अचानक बैन आ गया और मजबूरी में सबको अपने असली रूप में आना पड़ा। बस, यहीं पर सारा खेल शुरू हुआ और घरवालों ने अपने ही जिगर के टुकड़ों को पहचानने और अपनाने से मुँह मोड़ने लगे।

विडियो बनाकर ही बिल गेट्स बनने का सपना देख रहे इन सब ने पढाई को तो बहुत पहले ही लात मार दी थी। हालाँकि अब कोर्ट ने इस बैन को ख़त्म कर दिया है, जैसे ही यह खबर आई पिंकी ने फिर से मोटा मेक-अप लगा लिया। जब वो मेक-अप कर रही थी तभी उसकी मम्मी पीछे से आई और उसे गले से लगा लिया। “कहाँ थी तू अब तक? तेरे बिना ऑमलेट भी हमें सूखी रोटी जैसी लग रही थी!” -उसकी मम्मी ने कहा। पिंकी ने राहत की साँस ली।



ऐसी अन्य ख़बरें