Monday, 17th December, 2018

चलते चलते

मुरली विजय टीम में क्यों हैं? -युवक ने डाली RTI, जवाब में आया कोरा काग़ज़

15, Aug 2018 By Guest Patrakar

एजेंसी. टीम इंडिया इंग्लैंड के ख़िलाफ़ अपना दूसरा टेस्ट मैच भी बुरी तरह से हार गयी है। वैसे तो किसी का भी प्रदर्शन कुछ ख़ास नहीं रहा, मगर उन सब में भी सबसे ख़राब प्रदर्शन भारत के सलामी बल्लेबाज़ मुरली विजय का रहा। जो कि दोनों ही पारियों में बिना खाता खोले आउट हो गए। हालाँकि मुरली का प्रदर्शन पहले मैच में भी ऐसा ही रहा था। मगर इसके बाद भी उन्हें टीम में लिया गया और इस पर कई तरह के सवाल भी उठे। लखनऊ के युवक ने भी BCCI से RTI के माध्यम से जानना चाहा कि ‘आख़िर क्यूँ मुरली विजय लगातार ख़राब प्रदर्शन के बावजूद टीम में बने हुए हैं?’ जिसके जवाब में BCCI वालों ने कोरा काग़ज़ भेज दिया है।

murali-vijay-bold
RTI में भी खाता नहीं खोल पाए मुरली विजय

‘क्या है इस कोरे काग़ज़ का मतलब?’ यह समझने के लिए हमने BCCI प्रेज़िडेंट अनुराग ठाकुर से बात की, अनुराग ने बताया “देखिए! किसी भी RTI के जवाब में हम कोरा काग़ज़ तभी भेजते हैं, जब हमारे पास उस सवाल का कोई जवाब नहीं होता। मुरली बेशक बहुत अच्छे खिलाड़ी हैं मगर वो लगातार फ़्लॉप हो रहे हैं! इसके बावजूद उन्हें क्यूँ नहीं निकाला जा रहा इसका फ़ैसला BCCI नहीं बल्कि कप्तान और कोच लेते हैं!”

“हमारा काम बस इतना होता है कि जब टीम विदेश में हारके वापस आ जाए तो उनका ‘मॉरल’ बढ़ाने के लिए एक सीरिज़ श्रीलंका से और एक सीरिज बांग्लादेश से करा दें! बस इतना ही काम है हमारा, जो कि हम बख़ूबी कर रहे हैं! अब देखिए ना, इंग्लैंड दौरे से लौटते ही भारत और श्रीलंका की एक सीरिज तय कर दी गयी है, जो कि श्रीलंका में ही खेली जाएगी। इसके अलावा हमारे पास कोई जवाब नहीं है! अगर आपको जवाब चाहिए तो ये वाली चिट्ठी विराट को भेज दीजिए!” -उन्होंने आगे बताया।

BCCI ने तो हमें कोई जवाब नहीं दिया मगर पूर्व कप्तान और कोच अनिल कुंबले ने हमसे बात की और परदे के पीछे का रहस्य बताया। उन्होंने कहा कि “विराट ‘टीम’ नहीं स्कूल चलाते हैं, जो उनकी बात मानता है वो टीम में रहता है, जो नहीं मानता उसे निकाल दिया जाता है! वो अपने इशारों पर प्लेयर्स से काम करवाता है और जो काम करे उसे ही टीम में लेता है!”

“हर प्लेयर का अलग-अलग काम है, जैसे धवन का कपड़े धोना, पुजारा का शास्त्री के लिए पेग बनाना, रहाणे का मसॉज़ देने का और ऐसे ही मुरली विजय का सबके लिए भुट्टे गरम गर्ने का!”

“यही नहीं जिस दिन ईशांत बीमार होते हैं, उस दिन मुरली विजय ही विराट को बेंचप्रेस कराने में मदद कराता है और साथ में उनका प्रोटीन शेक भी तैयार करता है। इसके बाद चाहे विजय एक मैच में ज़ीरो बनाए या पूरी सीरिज में अंडा दे दें, उनकी जगह टीम में कोई नहीं ले सकता!” -कुंबले ने पूरा कच्चा-चिटठा खोल दिया।

हालाँकि यह बयान काफी संगीन है, मगर विजय और पण्ड्या जैसे खिलाड़ियों को इस टीम में  देखते हुए लगता है कि अनिल कुंबले सच बोल रहे हैं। अब टीम इंडिया अपना अगला मुक़ाबला नार्टीघम में 18 अगस्त को खेलेगी। अब देखना होगा कि क्या इतनी ख़राब प्रदर्शन के बावजूद कोहली, मुरली विजय को ड्रॉप करते हैं या कुंबले की बात वाक़ई में सच है।



ऐसी अन्य ख़बरें