Wednesday, 21st November, 2018

चलते चलते

चौथे दिन का खेल शुरू होने से पहले भारतीय ड्रेसिंग रूम की मीटिंग का विवरण

12, Aug 2018 By Sandeep Kadian

लॉर्ड्स. पहला टेस्ट हारने के बाद दूसरे टेस्ट में भी भारतीय टीम की हालत पतली नज़र आ रही है, इसी हालात में चौथे दिन का खेल शुरू होने से पहले भारतीय खिलाड़ियों के बीच क्या बातचीत हुई, हमने अपने ख़ुफ़िया कैमरे से रेकॉर्ड कर ली है! आइए पढ़ें उसी बातचीत के कुछ अंश:

Team-India-Planning
रणनीति बनाते सभी खिलाड़ी

(विराट कोहली ड्रेसिंग रूम में आते हैं और देखते हैं कि सभी गेंदबाज़ खिड़की से बाहर आसमान की तरफ नज़र टिकाए खड़े हैं)

विराट: ओये ये क्या कर रहे हो?

ईशांत: बारिश की दुआ कर रहे हैं, अच्छी बल्लेबाज़ी तो मुमकिन नहीं, क्या पता बादलों को ही तरस आ जाए हम पर!

विराट: गेंदबाज़ क्या कम मस्ती कर रहे हैं, वोक्स जैसा सौ कर गया!

ईशांत: ओ भाई वो ऑल राउंडर है, असली वाला, पांड्या जैसा चीन का माल नहीं, उसका सौ करना बनता है!

पांड्या: ईशांत भाई तुमसे अच्छी बोलिंग करी कल मैनें, दो विकेट लिए!

रहाने: बोलिंग तो सबकी ही ठीक थी यार, सिवाय कुलदीप के, जो फुल टॉस के लड्‍डू दिए जा रहा था!

धवन: (जाति कार्ड खेलने लगते हैं) अपने ‘यादव’ भाई को बाहर करने का बदला ले रहा था, कोई और धवन भी होता टीम में तो ज़ीरो पर आउट हो कर मेरे लिए भी प्रोटेस्ट करता!

ईशांत: तू तो अगले टेस्ट में खुद ही अपना बदला ले लेगा अंडे दे कर!

राहुल: अगले टेस्ट में धवन खेल रहा है क्या?

विराट: ओ ये वाला तो पूरा कर लो पहले, अगले वाले की अभी से आग लगी हुई है!

धवन: ये वाला तो बस पूरा हो ही गया, अपनी घंटे भर की बैटिंग बची है बस!

राहुल: क्या बात कर दी, घंटा भर तो पुजारा भाई ही खड़े रहेंगे रन आउट होने से पहले! क्यों पुजारा?

पुजारा: ज़ख़्मों पर नमक मत छिड़को भाई, वैसे गुस्सा नहीं हो सकते रन आउट होने पर, अगला मैच भी खेलना है!

विराट: हो ले गुस्सा, अगला मैच तो वैसे पक्का नहीं है तुम में से किसी का!

रहाने: पांड्या का तो फिर भी पक्का होगा!

विराट: शास्त्री सर कहते हैं वो अगला कपिल देव है!

करूण नायर: कोई अगला कपिल देव, कोई अगला द्रविड़, कोई अगला सचिन, हम ही पहले ‘नायर’ हैं जो ट्रिपल सेंचुरी के बाद भी बाहर ही बैठे रहते हैं!

पांड्या: तो नेट प्रॅक्टीस क्यूँ करता रहता है, थोड़ी शास्त्री सर के आस-पास घूमा कर, तेरा भी नंबर लग जाएगा, जलो मत, सीखो मुझसे!

(तभी रवि शास्त्री अंदर आते हैं और सभी खिलाड़ी उनके लिए ठंडा-गरम लाने के लिए जल्दी से इधर-उधर दौड़ने लगते हैं)



ऐसी अन्य ख़बरें