Sunday, 8th December, 2019

चलते चलते

दिल्ली में फैले प्रदूषण और कोहरे की वजह से रवि शास्त्री ने दारू समझकर पी लिया था दूध, हुए बीमार

12, Nov 2019 By Guest Patrakar

एजेंसी. दिल्ली के प्रदूषण का असर सबको हो रहा है, कोई इससे अछूता नहीं है, सूचना मिली है कि इसकी चपेट में भारतीय कोच रवि शास्त्री भी आ गए थे। घटना 3 नवंबर की बताई जा रही है जब भारत और बांग्लादेश के बीच पहला T-20 मैच खेला गया था। इस दौरान भारी धुँध में रवि शास्त्री को कुछ दिखाई नहीं दिया और उन्होंने दूध को व्हिस्की समझ कर पी लिया था जिससे उन्हें फूड-पॉइजनिंग हो गयी थी।

shastri-smog
दूध पीते शास्त्री

जिस डॉक्टर ने शास्त्री का इलाज किया था उस डॉक्टर ने यह खबर हमें लीक की है।

फ़ेकिंग न्यूज से बात करते हुए डॉक्टर ललित भटनागर ने बताया कि, “शास्त्री जी का सिस्टम हमारी तरह नहीं है, उनका पाचन-तंत्र ‘दारू’ का आदि हो चुका है, ऐसे में कोई भी बिना अल्कोहल का प्रोडक्ट उनकी बॉडी में जाता है तो वो उनके लीवर पर बुरा असर डालता है!

मरीज को उल्टी होने लगती है, अपच भी! सर चकराने लगता है और पेट में तेज़ दर्द भी होता है! तीन तारीख को भी ऐसा ही हुआ था, लगता है उन्होंने पीने से पहले ठीक से देखा नहीं कि ये दारू है या दूध!

उनके पर्सनल डॉक्टर ने हमें सलाह दी कि जब तक ‘रम’ के पैग की इंजेक्शन बनाकर उन्हें ना पेला जाए तब तक कोई ख़ास फायदा नहीं होता!

ऊपर से बीयर की बोतल चढ़ानी पड़ती है और कभी-कभी तो ऑक्सीजन सिलेंडर में व्हिस्की का फ्रैगरैंस डालकर मास्क भी लगाना पड़ता है तब जाकर उनकी तबियत सुधरती है! फिर क्या था, उस दिन हमने भी यही फार्मूला अपनाया, तब जाकर उनकी तबियत  में सुधार आया! बहुत टफ केस था भैया!” -डॉक्टर भटनागर ने आगे बताया।

उस दिन रवि की ग़ैर-मौजूदगी में टीम का माहौल बहुत ही मायूस हो गया था, कहीं प्लेयर चुपचाप अपनी प्रैक्टिस करते देखे गए तो कई तो कान में ईयरफ़ोन लगाकर वार्मअप करते देखे गये।

कुल मिलाकर वो अपने काम में ही व्यस्त थे जबकि जब शास्त्री होते थे तो टीम का आधा ध्यान उनको चखना वगैरह सप्लाई करने में लग जाता था।



ऐसी अन्य ख़बरें