Friday, 18th January, 2019

चलते चलते

तीसरे टेस्ट में स्लेजिंग होने पर 'जाने भी दो यारों' कहेंगे कोहली, नसीरुद्दीन शाह की मानी बात

20, Dec 2018 By Ritesh Sinha

मेलबोर्न. जब से नसीरुद्दीन शाह ने विराट कोहली के बारे में कहा है कि वो दुनिया के सबसे बदतमीज प्लेयर हैं, कोहली अवसाद में चले गए हैं। उन्हें अपनी पर्सनैलिटी से नफरत होने लगी है। कल नेट प्रैक्टिस के दौरान जब बाकी खिलाड़ी अपनी तैयारी कर रहे थे तो कोहली माथा पकड़कर साइड में बैठ गए थे। पूरे चार मिनट तक गहराई से सोचने के बाद उन्होंने फैसला किया है कि अगर तीसरे टेस्ट मैच में कंगारुओं ने गाली-गलौज की तो मैं सिर्फ इतना कहूँगा- “जाने भी दो यारों!”

kohli
सुनकर भी अनसुना करते कोहली

सूचना मिली है कि कोहली रवि शास्त्री के कंधों पर सर रखकर बड़बड़ा रहे थे कि, “क्या इतना बुरा हूँ मैं, क्या मैं सच में बदतमीज़ हूँ, शाह जी ऐसा क्यों कह रहे हैं, लगता है अब अच्छा लड़का बनना ही पड़ेगा! आज से गाली-वाली बंद और प्रायश्चित शुरू!” -कहते हुए उन्होंने यह घोर प्रतिज्ञा कर ली।

बस, तब से कोहली अपने प्लेयर्स को भी समझा रहे हैं कि कोई कुछ भी बोले हमें कुछ नहीं बोलना है, सिर्फ इतना कहना है- ‘जाने भी दो यारों’ यह मन्त्र रट लो और माहौल गरम होने पर भी शांत रहो, जैसे कुछ हुआ ही ना हो! ‘जाने भी दो यारों’ एप्रोच से दिमाग को ठंडक भी मिलेगी।

माना जा रहा है कि जो काम दस मुल्कों की मीडिया नहीं कर पाई उसे अकेले मसीरुद्दीन शाह ने कर दिया है। शाह के बयान से कोहली को इतना दुःख हुआ कि वो अब गाली-गलौज से मुक्ति पाना चाहते हैं, इसलिए उन्होंने नसीरुद्दीन शाह की फिल्म ‘जाने भी दो यारों’ का फंडा गले लगा लिया है।

हालाँकि, कोहली में आए इस बदलाव को उनके साथी खिलाड़ी जरा भी भाव नहीं दे रहे हैं। कोहली के लंगोटिया यार जडेजा ने बताया कि, “सब ढकोसला है, कोहली कभी सुनकर रह सकते हैं क्या? देखना, टिम पेन ने अगर कुछ ऐसा-वैसा कहा तो सारी प्रतिज्ञा भूल जाएगा और ब्याज सहित गाली देना शुरू कर देगा! ये तो अमित शाह से ना सुधरे फिर नसीरुद्दीन शाह क्या चीज़ हैं?”



ऐसी अन्य ख़बरें