Tuesday, 19th November, 2019

चलते चलते

Breaking: बीयर बोतल नहीं छोड़ रहे थे रवि शास्त्री, ऑपरेशन करके छुड़ाना पड़ा

31, Dec 2018 By Ritesh Sinha

मेलबोर्न. सूचना मिली है कि कल शाम को रवि शास्त्री ने बीयर की एक बोतल को इतना कसकर पकड़ रखा था कि वो उनके हाथ में ही चिपक गई थी। ये वही बोतल है जिसे वो टेस्ट मैच में मिली जीत के बाद पकड़े-पकड़े घूम रहे थे। सपोर्ट स्टाफ ने उनके हाथ से बीयर छुड़वाने की बहुत कोशिश की लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। बाद में कोहली वगैरह की मदद से उन्हें डॉक्टर के पास ले जाया गया। तीन घंटे तक चले ऑपरेशन के बाद ही शास्त्री के हाथों को बीयर से अलग किया गया।

इसी बोतल को छुड़ाया गया
इसी बोतल को छुड़ाया गया

ओ.टी. के बाहर खड़े कोहली ने हमसे विशेष बातचीत की। “ये हादसा कैसे हुआ?” -ऐसा पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि, “कल दिन भर वो इसी मूड़ में थे, एक तो टेस्ट में मिली ऐतिहासिक जीत, जिसपे सितम ये नया साल, दोनों का मूड एक साथ चढ़ गया उन पर! हमने भी कहा कि चलो पीने दो, अब हमें क्या पता था कि वो बोतल उनके हाथ में ही चिपक जाएगी!”

“मैंने भी अपनी पूरी ताकत लगा दी लेकिन उन्होंने छोड़ा ही नहीं! बल्कि वो तो एक नयी बोतल माँग रहे थे! दो मिनट के लिए तो गो** मुँह में आ गए थे! बाद में डॉक्टरों ने बड़ी मुश्किल से निकाला!” -कोहली ने आगे बताया।

उधर, ऑस्ट्रेलिया से जब खबर आई कि बोतल छुड़ा ली गई है तो कई क्रिकेट फैंस गलतफहमी के शिकार हो गए। कुछ लोगों ने इस खबर को ऐसे समझ लिया कि शास्त्री ने दारू हमेशा के लिए छोड़ दी है, जबकि ऐसा नहीं था। ‘बोतल छुड़ा ली गई है’ का मतलब है कि जो ‘बोतल’ हाथ में चिपक गई थी उसे छुड़ा लिया गया है. पीने की आदत नहीं!

उधर, इंडिया से एक लाख लोगों ने उस डॉक्टर को एक चिट्ठी लिखी है जिसने रवि शास्त्री का सफल ऑपरेशन किया है। इन लोगों ने अपनी चिट्ठी में लिखा है कि, “डॉक साब! आपने बोतल तो छुड़ा दी, दारू भी छुड़ा दो ना, हमेशा के लिए!”

इस घटना पर अपनी टिप्पणी देते हुए शास्त्री के एकमात्र फैन जनार्दन मिश्रा ने बताया कि, “अच्छा हुआ जो शास्त्री जी को चोट नहीं आई! आजकल के ‘बीयर’ भी ना, हाथ से ऐसे चिपक जाते हैं जैसे हमारे नेतागण सरकारी बंगले से!



ऐसी अन्य ख़बरें