Friday, 10th April, 2020

चलते चलते

'कोरोना' को छोड़कर किसी और मुद्दे पर बात कर रहे थे दो युवक, भीड़ ने दौड़ाया

18, Mar 2020 By Ritesh Sinha

मेरठ. आजकल चारों तरफ ‘कोरोना’ की ही चर्चा है, जहाँ देखो वहाँ लोग कोरोना को लेकर तरह-तरह की बातें कर रहे हैं। इस बीच एक ऐसी घटना हुई है जिसने लोगों को सोचने पर मजबूर कर दिया है।

chai-tapri
यही पर हुआ हादसा!

सूचना मिली है कि कल शाम को भीड़ ने ‘रतनलाल की टपरी’ पर हमला बोल दिया और वहाँ बैठकर आराम से चाय पी रहे दो युवकों को तबियत से धो दिया। इन दोनों युवकों पर आरोप है कि ये चाय पीते समय ‘कोरोना’ की नहीं बल्कि किसी और मुद्दे पर बात कर रहे थे।

बस, यही बात टपरी के CEO रतनलाल को पसंद नहीं आई और उसने अपने दोस्तों को स्पॉट पर बुला लिया। बाद में इसी भीड़ ने दोनों युवक, रवि और कमल की जमकर सुताई कर दी। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि रवि और कमल बड़ी मुश्किल से भागने में सफल हुए हैं।

उधर, चाय टपरी के संचालक रतन लाल ने फ़ेकिंग न्यूज को बताया कि, “देखो भैया! हम यहाँ पच्चीस साल से धंधा कर रहे हैं, कभी किसी ग्राहक को ‘बे-साले’ तक नहीं कहा, लेकिन इस लड़कों ने तो हद ही कर दी! सारी दुनिया जब कोरोना पर बहस कर रही है तो तुम साले क्या पत्थर के बने हो जो स्टॉक मार्किट के बारे में बातें कर रहे हो!

कल शाम को ये दोनों मेरी टपरी पर आये और कहन लगे कि ‘दो कड़क चाय बनाओ!’  ..तो हमने केतली चढ़ा दी! इधर चाय बन रही थी और उधर दोनों बेंच पर बैठकर बातें कर रहे थे! हमें लगा कि जरूर ‘कोरोना’ के बारे में बात कर रहे होंगे पर जब हम उनको चाय देने गये तो देखा कि ये तो ‘अपर सर्किट’ और ‘लोअर सर्किट’ के बारे में बात कर रहे थे! पूरा सर्किट थे साले! मेरा खून खौल उठा साब, मेरी चाय की तरह!

मैंने तुरंत मनोज, लल्लन, जिगर, गोरे, बाबू वगैरह को फोन घुमाया और झट से टपरी पर आने को कहा! जैसे ही वे आ गये, धो दिया सालों को!” -रतन लाल ने गमछे से मुँह पोछते हुए कहा।

उधर, रवि और कमल को भी अपनी गलती का एहसास हो गया है, उन्होंने रतनलाल से माफ़ी मांग ली है व्हाट्सएप पर ‘कोरोना’ का इलाज फारवर्ड करके रतनलाल को खुश कर लिया है।



ऐसी अन्य ख़बरें