Friday, 10th April, 2020

चलते चलते

पसंद के रंग का मास्क नहीं मिला तो बिना मास्क के इटली चली गई साउथ दिल्ली की युवती, खाँसते हुए लौटी

16, Mar 2020 By Guest Patrakar

दक्षिण दिल्ली. कोरोना वायरस अपने आप से कम और लोगों की लापरवाही से ज्यादा फैल रहा है, कोई संदिग्ध इलाज छोड़कर हॉस्पिटल से भाग जा रहा है तो कोई अपने परिवार के साथ बड़ी लापरवाही से घूमने जा रहा है। हालाँकि दक्षिण दिल्ली के लड़कियों की समस्या इन सबसे जुदा है।

girl-mask
पिंक वाला नहीं मिला!

साउथ दिल्ली GK पार्ट वन की रहने वाली वैजयंती सिंघानिया, सिर्फ इसलिए बिना मास्क के इटली चली गई क्योंकि उसे अपनी पसंद के कलर का मास्क नहीं मिला था।

दरअसल, वैजयंती को गुलाबी रंग बहुत प्रिय है वहीं मेडिकल स्टोर वाले के पास जितने भी मास्क थे, सब सफेद कलर के थे। इस हालात में भी वैजयंती ने अपनी च्वाइस के साथ समझौता नहीं किया और बिना मास्क के ही टूर पर चली गयी, नतीजा ये हुआ कि जब वो वापस आई तो खाँस रही थी।

वैजयंती को एयरपोर्ट के स्टाफ ने भी मास्क पहनने की हिदायत दी थी लेकिन उसने ये कहते हुए उनकी बातों को टाल दिया कि आजकल के लोगों को ‘Looks’ की कोई समझ ही नहीं है। फिलहाल वो ‘मिलान’ घूमकर वापस इंडिया आ गई है और गंगाराम अस्पताल में अपना इलाज करवा रही है।

हमने वैजयंती की ‘मॉम’ शैलबाला सिंघानिया से बात की और उनकी राय जानी, उन्होंने अपनी बेटी के बारे में कहा कि, “ये तो मेरी बेटी की चॉइस है कि उसे मास्क पहनना है या नहीं! एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते उसने हर मेडिकल स्टोर पर नीयोन पिंक कलर का मास्क ढूँढा लेकिन नहीं मिला!

बाद में पता चला कि Neon पिंक भी सत्रह अलग-अलग शेड्स में आता है,  वैजयंती को तेरहवें नंबर का शेड ही  पसंद है, अब कंपनी वालों ने इस रंग का मास्क ही नहीं बनाया है तो इसमें मेरी बेटी की क्या गलती है?” – शैलबाला जी ने ग्रीन-टी की चुस्की लेते हुए कहा।

एक ओर जहाँ वैजयंती का मज़ाक बनाया जा रहा है वहीं दूसरी ओर सोशल मीडिया पर कुछ फ़ेमिनिस्ट उनका जमकर समर्थन भी कर रहे हैं। कई नामी ऐक्ट्रेसेज़ ने वैजयंती के लिए आवाज उठाई है और हैशटैग #ItsHerChoice पर जमकर पोस्ट किया है।



ऐसी अन्य ख़बरें