Tuesday, 22nd October, 2019

चलते चलते

लगातार सत्रह शादियों में नागिन डांस करने के कारण युवक की पीठ में आया परमानेंट विकार

03, Jan 2019 By Pagla Ghoda

मेरठ. बीए फाइनल ईयर के छात्र मार्कण्ड जयकिशन की पीठ में एक मोड़ यानी विकार आ जाने के कारण उन्हें सिविल हस्पताल में भर्ती कराया गया है। मार्कण्ड जयकिशन, जो कि खुद को मोहल्ले का माइकल जैक्सन कहता फिरता है, अपने तथाकथित नागिन डांस के लिए पूरे ज़िले में मशहूर है। पिछले तीन महीने में वो लगभग सत्रह शादियों में अपना ‘इच्छाधारी’ रूप दिखा चुका है। बस, इसी टेढ़े-मेढ़े डांस के ओवरडोज से उनकी पीठ में ये विकार आया है, जो कि अब एक कूबड़ की तरह दिखता है।

naagin-dance
नागिन डांस करता मार्कण्ड

इस मामले में मार्कण्ड के पिता श्री छेदीराम जयकिशन ने चिंतित स्वर में अपने विचार व्यक्त किये, “देखिये हमने तो कई बार इस लड़के को समझाया कि ये सब ऊटपटांग नाच-गाने मत किया करो, अपनी नाज़ुक पसलियों पर कुछ रहम करो! लेकिन आजकल की जनरेशन हमारी बात सुनती ही कहाँ है?”

“बोलता है, पिताजी हमारे वीडियो व्हाट्सएप पे वायरल हो रहे हैं, लड़कियाँ हमपे मरने लगी हैं! अजी ये क्या बात हुई?”

अदरक वाली चाय की चुस्की लेकर छेदीराम जी आगे बोले, “बेटेलाल ने परिवार की इज्ज़त का फालूदा तो किया ही है, सड़कों पे लेट-लेट कर दर्ज़न भर शर्ट-पैंट अलग से फाड़ चुका है! खैर, छोड़ो दो-ढाई सौ रुपये के कपड़ों को, दुःख तो इस बात का है कि भरी जवानी में कूबड़ बनवा बैठा है! अब आप ही बताएँ क्या हमाई पेंशन का सारा पैसा इनके इलाज में ही खर्च होगा?”

“मित्रों के संग बैंगकॉक.. मेरा मतलब है मॉरीशस जाने का प्लान बनाया था, मंदिर वग़ैरह काफ़ी अच्छे हैं वहाँ सुना है, पर वो प्लान तो चौपट ही हो गया ना! यहाँ तक कि श्रीमती जी को मॉल लेकर जाने में भी डर लगता है, कहीं सिल्क की साड़ी माँग बैठी तो छीछालेदर हो जाएगी इस बुढ़ापे में! सब तरफ से मुझे ही धक्का है बेटा!” -कहते हुए उन्होंने अपना माथा पकड़ लिया।

मुंबई के जाने माने मनोवैज्ञानिक समीर नेटफलिक्सवाला ने भी नागिन डाँस से होने वाली दुर्घटनाओं को लेकर अपने विचार व्यक्त किए। अशोक कुमार स्टाइल में पाइप सुलगाते हुए समीर जी बोले, “सोशल मीडिया अब मात्र एक मनोरंजन का साधन नहीं रह गया है, बल्कि ये युवाओं के लिए एक ‘एडिक्शन’ भी बन गया है! सोशल मीडिया पर वायरल होकर ख़ुद को ‘कूल’ साबित करने के लिए जहाँ अमेरिकी युवा डिटर्जेंट की गोलियाँ गटक रहे हैं, वहीं अपने देश के कई युवक नागिन डाँस जैसे अजीबो-ग़रीब नृत्य करके इंटरनेट की जनता को लुभाने का प्रयास कर रहे हैं!”

“अपनी जान जोखिम में डालने से पहले वो यह भूल जाते हैं कि उनके उस वीडियो को लोग केवल दो क्षण के लिए देखेंगे और भूल भी जाएँगे! पर फेसबुक लाइक से पैदा होने वाली ‘डोपमीन’ का नशा शायद कोकीन के नशे से भी ज़्यादा विनाशकारी होता है।” -समीर ने खुलासा किया।



ऐसी अन्य ख़बरें