Sunday, 5th April, 2020

चलते चलते

कार खरीदने पहुँचा प्याज का आढ़ती, लैम्बोर्गिनी के बगल मे खड़े होकर बोला- "इससे भी महँगी वाली दिखाओ!"

10, Dec 2019 By Ritesh Sinha

नासिक. शहर के गणपति कार शो-रूम में उस समय हड़कंप मच गया जब एक किसान ने लैम्बोर्गिनी लेने से ये कहते हुए इनकार कर दिया कि ये बहुत सस्ता पड़ रहा है, उसने मैनेजर से साफ कह दिया कि, ‘इससे महँगा वाला आइटम है तो बताओ वरना मैं अगला शो-रूम चेक करता हूँ!’

lamborghini
इसे भी नहीं खरीदा लालचंद ने!

किसान का नाम लालचंद बताया जा रहा है जो नजदीक के एक गांव में, अपने तीन हेक्टेयर भूमि पर प्याज उगाया करता है। इस साल प्याज की खेती में उसे अच्छा मुनाफा हुआ है, यही वजह है कि वो अपने लिए नयी कार लेने पहुँचा था।

गणपति शो-रूम के मालिक सदाशिव पाटिल ने फ़ेकिंग न्यूज़ को बताया कि, “बड़ा अजीब ग्राहक था भाईसाब, ठीक से बात भी नहीं करता था, मैंने ‘नमस्ते’ कहा तो उसने मुझे तिरछी नजर से देखते हुए कहा कि, “मैं गरीबों के मुँह नहीं लगता!’ मैं मौके पर ही शर्मिंदा हो गया!

उसके बाद लालचंद ने अच्छी सी कार दिखाने के लिए कहा! मैंने उनके स्टेटस के हिसाब से ‘टाटा टिगोर’ दिखा दी! कार की कीमत सुनकर उसने मुझे ‘पेचकस’ फेंककर मारा और गुस्से में कहा कहा, “ये गरीबों की कार का मैं क्या करूँगा, कोई अच्छा सा दिखाओ!”

मैंने उनका चेहरा लैम्बोर्गिनी की तरफ मोड़ दिया, लैम्बोर्गिनी की कीमत सुनकर भी वो आग-बबूला हो गये, कहने लगे, ‘इससे भी महँगा वाला हो तो दिखाओ, बकवास मत करो! हमारा टाइम खोटा किया तो दस किलो प्याज देकर तुम्हारा पूरा शो-रूम खरीद लेंगे! जब मैंने कहा कि इससे महँगी कार तो मेरे पास नहीं है तो गालियाँ देते हुए चले गये! मैं हाथ मलता रह गया!” -सदाशिव ने आगे बताया।

दरअसल, पिछले पाँच-छः सालों से प्याज उत्पादक किसानों को काफी नुकसान झेलना पड़ रहा था, कई बार तो प्याज दो रुपये किलो में भी नहीं बिक रहा था लेकिन इस बार ऐसा नहीं है, प्याज के दाम 120 रुपये को पार कर गये हैं और इसका फायदा किसानों को भी हो रहा है। हालाँकि इस फायदे का एक बहुत बड़ा हिस्सा बिचौलिये ले जा रहे हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें