Friday, 23rd August, 2019

चलते चलते

कानपुर के एक युवक ने 'ठाँय-ठाँय' की आवाज निकालकर मेहमानों को भगाया

14, Oct 2018 By Ritesh Sinha

कानपुर. बदमाशों को पकड़ने गई यूपी पुलिस की पिस्तौल ने जब ऐन मौके पर धोखा दे दिया तो पुलिस वालों को मुँह से ठाँय-ठाँय की आवाज निकालनी पड़ी थी, ताकि बदमाशों को डराया जा सके। इस महान खोज का उपयोग अब आम लोग भी अपने-अपने हिसाब से करने लगे हैं। कानपुर के एक युवक ने ऐसे ही मुंह से ठाँय-ठाँय की आवाज निकालकर मेहमानों को डरा दिया और पाँच घंटों से घर में जमे सभी मेहमानों को भागने के लिए मज़बूर कर दिया।

Guest asking marks
ठाँय-ठाँय से मेहमान भी भाग जाते हैं!

आरोपी युवक का नाम अमित चौरसिया बताया जा रहा है। हुआ यूँ कि, आज सुबह जब अमित बाथरूम में नहा रहा था, तभी उनके दूर के फूफा जी अपनी ‘पलटन’ सहित घर में टपक पड़े। फूफा जी की आवाज से ही अमित ने पहचान लिया कि ‘मि. पकाऊ’ आए हैं और ये दुनिया भर के सवाल पूछकर मुझे परेशान करेंगे। यही सोचकर वह बाथरूम में ही दुबककर बैठ गया।

इस बीच फूफा जी ने एक दो बार पूछा भी था “अमित कहाँ है? उसके करियर के बारे में उसे कुछ सवाल करना है, वरना मेरा खाना नहीं पचेगा!” लेकिन घरवालों ने कह दिया कि वो अभी घर पर नहीं है। इस दौरान फूफा जी के शरारती बच्चे घर में घूम-घूमकर कीमती सामान तोड़-फोड़ रहे थे। अमित अंदर बैठे-बैठे आग में जल रहा था।

उसने अनुमान लगाया था कि एक-दो घंटे में ये लोग चले जाएँगे, तब तक यहीं दुबककर रहने में कोई घाटा नहीं है। लेकिन अमित का दाँव उल्टा पड़ गया। चार घंटे हो गए लेकिन उनके फूफाजी ने जाने का नाम ही नहीं लिया। तभी उसे यूपी पुलिस का आजमाया हुआ एक जबरदस्त आईडिया आया, जिसे उसने आज सुबह ही अखबारों में पढ़ा था, ‘ठाँय-ठाँय’ वाला। उसने बिना देर किए मुँह से ‘ठाँय-ठाँय’ की आवाज निकालना शुरू कर दिया।

यह आवाज सुनकर मेहमान डर गए और अपनी जान बचाकर भागने लगे। ‘गोली चली है, लगता है यूपी पुलिस आसपास एनकाउंटर कर रही है, भागो यहाँ से!” -कहते हुए फूफा जी अपने बच्चों को लेकर घर से पलायन कर गए। जब अमित को पूरी तरह यकीन हो गया कि घुसपैठिये चले गए हैं, वह टॉवल से सर पोछते हुए बाहर निकला। बाद में घरवालों ने अमित की प्रसंशा करते हुए दो-चार शब्द भी कहे।

उधर, यूपी पुलिस ने इस घटना की घोर निंदा की है। उनका कहना है कि हमारी खोज का बेजा इस्तेमाल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। साथ ही पुलिस ने इस तकनीक को अपने नाम से पेटेंट करवाने का फैसला भी किया है।



ऐसी अन्य ख़बरें