Friday, 18th January, 2019

चलते चलते

दिवाली की सफ़ाई में गृहणी ने ढूंढ निकाले दस लाख रुपये के चिल्लर, बनाया विश्व रिकॉर्ड

22, Oct 2018 By Guest Patrakar

नयी दिल्ली. दिवाली आने वाली है और लोग ज़ोर-शोर से सफ़ाई में लगे हुए हैं। कई बार इसी सफ़ाई के दौरान लोगों को अक्सर वो चीज़ें मिल जाती हैं जो सालों से खोई हुई हो। ऐसा ही हुआ दिल्ली के कृष्णानगर की एक गृहणी के साथ जिसे दिवाली की साफ़-सफ़ाई में पूरे दस लाख रुपए के चिल्लर हाथ लग गए।

housewife
साफ़-सफाई में जुटीं सुधा मैडम

चिल्लर ढूंढने वाली खोजी महिला सुधा शर्मा से हमने बातचीत की और सारी बात जानी। उन्होंने बताया कि “हमारे घर में हर किसी को पैसे रख कर भूलने की बड़ी आदत है, ऐसे में जब मैं पिछले हफ़्ते दिवाली की साफ़-सफ़ाई कर रही थी तो मुझे बहुत सारे पैसे इधर-उधर पड़े हुए मिले!”

“दस-पाँच और बीस रुपए के नोट्स को जब मैंने गिनना शुरू किया तो कुछ दस लाख तीन हज़ार रुपए के क़रीब निकले! बस यूँ समझ लो कि एक अच्छी सी कार खरीदने लायक पैसे हमने सोफे और आलमारी के नीचे ही फ़ेंक रक्खे थे, हाँ!” -सुधा जी ने अपना एक हाथ घुमाते हुए बताया।

“मेरा चुन्नू बहुत होशियार है, उसी ने गिनीज बुक वालों को फोन लगा दिया! उन पुस्तक वालों ने भी कहा कि ऐसा चमत्कार पहले कभी नहीं हुआ है!” -नाक में ऊँगली डालकर खड़े अपने बेटे की ओर इशारा करते हुए सुधा जी बोलीं।

आपको बता दें कि इससे पहले एक युवक को साफ़-सफ़ाई के दौरान बरसों से खोए हुए उनके दादाजी मिल गए थे। कुछ स्टडी तो यहाँ तक दावा करते हैं कि मुआ ‘कोलंबस’ भी दिवाली की ही साफ़-सफ़ाई कर रहा था, जब उसने अमेरिका को खोज निकाला था।

लेकिन दिवाली की सफ़ाई में हर खोई चीज़ मिल जाती है, ऐसी बात भी नहीं है। कुछ चीज़ें ऐसी हैं जो कभी नहीं मिलेंगी, जैसे कि, उस रात सलमान का ड्राइवर, राहुल गाँधी का स्पीच राइटर और आज कल के पत्रकारों के सूत्र।

ख़ैर, सुधा जी को तो उनके दस लाख मिल गए, अब समय आ गया है कि आप भी झाड़ू उठाकर काम में लग जाएँ, क्या पता सत्तर-अस्सी रुपया घर के किसी कोने में आपका इंतज़ार कर रहा हो!



ऐसी अन्य ख़बरें