Monday, 17th December, 2018

चलते चलते

युवक ने बिना गाली दिए पूरा कर दिया एक वाक्य, दोस्तों ने जमकर धोया

24, Sep 2018 By Ritesh Sinha

मेरठ. कल शाम गाँधी पार्क में बैठे कुछ लड़कों ने अपने ही एक दोस्त ‘सुमीत’ की जमकर धुनाई कर दी। सुमीत की गलती सिर्फ इतनी थी कि उसने बिना गाली दिए एक पूरा वाक्य फिनिश करके दिखा दिया था। बस, इसी बात से उनके दोस्त नाराज हो गए और उसे खर्चा-पानी देना शुरू कर दिया। पूरे सात मिनट तक यह कारोबार बेधड़क चलता रहा, तभी पार्क में टहल रहे कुछ लोगों ने ‘गाँधी जी’ का हवाला दिया, तब जाकर लड़कों ने हिंसा का परित्याग किया।

Fight
सुमीत को धोते उसके दोस्त

ये सभी युवक मेरठ के ही रहने वाले हैं और पार्क में बैठकर क्रिकेट पर चर्चा कर रहे थे। उनमे से एक युवक दीपक ने कहा कि “स्साला शिखर धवन आजकल अच्छा चल रहा है, कोहली के बिना भी टीम इंडिया जीत जा रही है! लगता है साला अब उसकी जरूरत ही नहीं है!” इस पर भुवन ने ज्ञान देते हुए कहा कि “क्या ख़ाक चल रहा है? B@#$K इंग्लैंड में शतक मारके दिखाता तब मैं मानता!”

दिनेश, जो बहुत देर से चुप बैठा था उसने भी अपना खाता खोल दिया, “भुवन सच कह रहा है बे! फ्लैट पिच पर तो साला जमुना प्रसाद का बेटा भी अच्छी बैटिंग कर लेता है!” तभी अचानक Conclusion रिमार्क देते हुए सुमीत के मुँह से निकल गया कि, “यार मैं तो सिर्फ क्रिकेट का मज़ा लेता हूँ, कोई जीते या हारे, ज्यादा लोड नहीं लेता!”

सुमीत ने अपना ‘वाक्य’ बिना गाली दिए पूरा कर दिया था। उसके दोस्तों को तो यकीन ही नहीं हुआ कि ऐसा भी किया जा सकता है। वे सभी सुमीत को आँखें फाड़-फाड़कर देखने लगे। दोस्तों ने उसे माफ़ी माँगने के लिए दो मिनट का समय भी दिया, लेकिन सुमीत ने ये कहकर बात को टाल दिया कि उसने कुछ भी गलत नहीं किया है।

इसके बाद तो उसके दोस्त एक मिनट भी नहीं रुके और सुमीत को खींचकर रोड में ले आए। “साले, गाली देना कैसे भूल गया तू? पूरा एक वाक्य बिना गाली के, मुझे तो यकीन ही नहीं होता, तेरी हिम्मत कैसे हुई @@३$#?” -भुवन ने लात चलाते हुए कहा। बाकी लड़के भी अपनी कला का प्रदर्शन लगातार कर रहे थे।

सुमीत को पिटता हुआ देखकर कुछ लोग दौड़कर वहाँ आए और सीधे शांति प्रस्ताव के काम में लग गए। उधर, सुमीत ने भी अपनी गलती मान ली थी। जब उसने वादा किया कि आगे ऐसी गलती नहीं होगी, तब जाकर दोस्तों ने सीजफायर का ऐलान किया।



ऐसी अन्य ख़बरें