Wednesday, 21st November, 2018

चलते चलते

माँ दुर्गा स्वयं युवती बन दर्शन करने पहुँची 'सबरीमाला', श्रद्धालुओं ने बाहर से ही लौटाया

25, Oct 2018 By Fake Bank Officer

तिरुवनंतपुरम. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी भगवान अयप्पा के भक्तों ने यह ठान लिया है कि वो किसी भी 10 से 50 वर्ष की उम्र की महिला को भीतर नही घुसने देंगे। इसी सिलसिले में कुछ भक्तगण प्रवेश द्वार पर खड़े होकर महिलाओं से उनकी दसवीं की मार्कशीट या अन्य दस्तावेजों की मांग भी कर रहे हैं, ताकि उनकी ठीक-ठीक उम्र पता लगाई जा सके। वहीँ इसी बीच खबर आई है कि साक्षात माँ दुर्गा ने युवती के भेष में सबरीमाला मंदिर में प्रवेश करने का प्रयास किया था लेकिन प्रदर्शनकारियों ने उनको बाहर से ही खदेड़ दिया।

sabarimala
इस घटना के बाद इलाके में तनाव!

माँ दुर्गा ने अपने विशेष ट्विटर हैंडल से अपने भक्तों को जानकारी दी कि जब उन्हें सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पता चला तो उन्होंने भी सोचा कि क्यों ना एक बार भगवान अयप्पा के दर्शन कर लिया जाए।

“मैं वहाँ पर एक युवती का रूप धारण करके गयी थी, पर श्रद्धालुओं ने मुझे घुसने ही नही दिया! कुछ श्रद्धालुओं ने मुझसे कहा कि यदि मैं कोई भी ऐसा डॉक्यूमेंट दिखाऊँ जिससे यह साबित हो सके कि मेरी उम्र दस वर्ष से कम या पचास वर्ष से ज्यादा है, तभी मुझे मंदिर में प्रवेश करने देंगे!”

माँ दुर्गा ने आगे अपने ट्वीट में लिखा कि “वो लोग बार-बार परंपरा की बात कर रहे थे और मैं समझती थी कि भारतवर्ष में आजकल कानून का शासन है!”

उधर, दुर्गा माँ के कुछ भक्तों ने दावा किया है कि बाद में माता एक साठ साल की वृद्धा बनकर फिर सबरीमाला आयी और दर्शन करके चली गयी। हालाँकि इन दावों की पुष्टि नही हो पाई है।

इसी बीच मंदिर के पुजारी ने फ़ेकिंग न्यूज़ को बताया कि “श्रद्धालुओं को आभास नही था कि वह युवती साक्षात माँ दुर्गा हो सकती हैं, यदि उन्हें जरा भी खबर होती तो वे माँ दुर्गा को पूरे सम्मान के साथ द्वार से वापस भेजते!” वहीँ, कांग्रेस के एक नेता ने विवादित बयान देते हुए कहा है कि, “सबरीमाला मंदिर कोई पर्यटन स्थल नही है इसलिए माँ दुर्गा को इससे दूर ही रहना चाहिए!”



ऐसी अन्य ख़बरें