Saturday, 17th November, 2018

चलते चलते

हाई-टेक सुरक्षा के बावजूद 'विमल गुटखा' बनाने का फॉर्मूला चुराकर ले गए विदेशी चोर

02, Sep 2018 By bapuji

कानपुर. देश भर की ख़ुफ़िया एजेंसियों को उस समय शर्मिंदगी झेलनी पड़ी जब उनकी नाक के नीचे से शातिर चोरों ने विमल गुटखे का फ़ॉर्मूला चुरा लिया। जी हाँ, दिल दहला देने वाली यह घटना विमल कंपनी के मुख्य ऑफिस में बीती रात हुई जहाँ कुछ चोरों के एक समूह ने भारी सुरक्षा को धता बताकर गुटखे का फार्मूला हासिल कर ही लिया। घटना के बाद से ही केसरी ज़ुबान वाले अजय देवगन का रो-रोकर बुरा हाल हो गया है। इस हाईटेक चोरी की FIR थाने में दर्ज करा दी गयी है।

Ajay-Devgan-Vimal-Pan-Masala
केसर का दम दिखाते अजय देवगन

पाठकों को बता दें की विमल पान मसाला कोई आम गुटखा नही है, इसकी ख़ासियत ये है कि इसके दाने-दाने मे केसर का दम होता है। इतना दम तो कश्मीर में पैदा हुए असली केसर में नहीं होता, जितना इस गुटखे में होता है! स्वयं अजय देवगन ने इस बात की पुष्टि की है! यही कारण है कि इसके फ़ॉर्मूले पर गूगल और एप्पल समेत कई विदेशी कंपनियों की बुरी नज़र थी। अरबों का गुटखा कारोबार सिर्फ़ इसके सीक्रेट फार्मूले पर टिका हुआ था, जाहिर है इस केसरिया फ़ॉर्मूले को एक हाई टेक सुरक्षा के बीच कानपुर में रखा गया था।

सीसीटीवी फुटेज के अनुसार, कल रात को दस अंग्रेज चोर, पैराशूट की सहायता से कंपनी के मुख्य ऑफिस की छत पर कूद गए और ग्लास काट कर रस्सी के सहारे 200 फीट नीचे रखे सेफ-रूम तक पहुँचने में कामयाब हो गए।

सुरक्षा में तैनात कमांडो फत्तन यादव को वो पहले ही बेहोश कर चुके थे! इसके बाद उन्होंने आग लगाने वाली लेजर किरण के सुरक्षा घेरे को पार कर लिया और मुख्य वॉल्ट मे रखे फ़ॉर्मूले को लेकर उसी रास्ते से फरार हो गये। इस सीक्रेट फार्मूले के साथ-साथ दस हज़ार पाउच गुटखा भी गायब हुआ है, जो उसी तिजोरी में एक किनारे पर रखा हुआ था! चोरों की इस हरकत से उनके भयंकर गुटखाबाज़ होने से इनकार नही किया जा सकता।

एप्पल के ‘iGutkha’  लांच करने की अफवाहों के बीच अजय देवगन ने एक प्रेस-कॉन्फ्रेंस में भड़कते हुए कहा कि “विमल हमारा राष्ट्रीय गुटखा है और इसके फ़ॉर्मूले की चोरी देश के स्वाभिमान की चोरी है! अगर एप्पल या गूगल ने विमल से मिलता-जुलता कोई प्रोडक्ट मैदान में उतारा तो हम केसरिया ज़ुबान की ताक़त उन्हे दिखा देंगे और थूक-थूक कर कैलिफोर्निया की सड़कें लाल कर देंगे!”

माना जा रहा है कि देश की ख़ुफ़िया एजेंसियों को पहले से शक था कि इस चोरी को अंजाम दिया जा सकता है, इसके बावजूद ऐसी घटना का हो जाना सोचने पर मज़बूर करता है। उधर, हाई प्रोफाइल मामला होने की वजह से पुलिस ने मामले की तहकीकात तुरंत शुरू कर दी है।



ऐसी अन्य ख़बरें