Tuesday, 17th September, 2019

चलते चलते

अपने दादा की तेरहवीं में फूड रिव्यू कर रहा था फूड ब्लॉगर, रिश्तेदारों ने तबियत से धोया

28, Aug 2019 By Guest Patrakar

पुणे. सोशल मीडिया ने सचमुच लोगों के अंदर से संवेंदनशीलता को ख़त्म कर दिया है, लोग लाइक्स और फॉलोवर्स के लिए किसी भी हद तक चले जा रहे हैं। ऐसी ही एक घटना पुणे से सामने आई है जहाँ पोते ने अपने दादा की तेरहवीं के खाने का फूड रिव्यू कर डाला जिसके बाद आस-पास खड़े लोगों ने उसकी जमकर पिटाई कर दी।

food-review
अपने काम में बीजी सतीश

मामले की अधिक जानकारी के लिए हमने लड़के के चाचा वेदप्रकाश जी से बात की, उन्होंने बताया “मेरे पिताजी का पिछले हफ्ते देहांत हो गया था, रोहन मेरा भतीजा है और शौक़ के तौर पर फूड ब्लॉगिंग करता है!

हम सब पिताजी के तेरहवीं में शांत बैठकर चिंतन कर रहे थे कि इस नालायक सतीश ने अपना कैमरा खोला और खाने में बनी पूरियों और सब्जी का ‘रिव्यू’ करना शुरू कर दिया! बात यहाँ तक रुक जाती तो भी चलता लेकिन उस नालायक ने तो खाने पर आये लोगों की राय लेनी भी शुरू कर दी थी!

अपने भोपाल वाले फूफाजी जरा गरम मिजाज के हैं, उन्हें यह जरा भी पसंद नहीं आया और उन्होंने सतीश को कूटना शुरू कर दिया! बाद में परिवार के अन्य सदस्यों ने भी इस महान कार्य में उनका हाथ बँटाया!” -वेदप्रकाश जी ने आगे बताया।

आखिर है तो अपना ही बच्चा ना, मेरा दिल पसीज गया और मैंने झगड़ा शांत करवाया और लड़के को अस्पताल भिजवाया!” -मसनद पर टिकते हुए उन्होंने अपनी बात पूरी की।

खैर, ऐसा किस्सा पहली बार नहीं हुआ है, ऐसा ही एक वाकया उस समय हुआ था जब DSLR कैमरे की वजह से खुद को फोटोग्राफर समझने वाला एक युवक कश्मीर की बाढ़ में फँस गया था। वहाँ जब उसे सेना बचाने आई तो उसने उनका हाथ पकड़ने से पहले उनका पूरा फोटो  सेशन कर लिया, लाइट और ऐंगल अच्छा आ रहा था ना इसलिए! सेना वालों ने उसे बचा तो लिया लेकिन बचने के बाद स्थानीय लोगों ने उसे कुत्ते की तरह पीटा और वापस नदी में फेंक दिया।

सतीश फिलहाल अस्पताल में भर्ती है और वहाँ मिलने वाले नीरस खिचड़ी का फूड रिव्यू कर रहा है।



ऐसी अन्य ख़बरें