Tuesday, 22nd October, 2019

चलते चलते

होली पर नहाना ना पड़े इसलिए कई इंजीनियर अपना धर्म बदलने की फिराक में

22, Mar 2019 By Guest Patrakar

बैंगलोर. ठंडी के दिनों में चार महीनों तक ना नहाने वाले आलसी लोग भी होली के दिन रंग लगने पर नहा लेते हैं, लेकिन ‘इंजीनियर’ बिरादरी तो ऐसी है कि होली के दिन भी नहाना ना पड़े इसलिए अपना धर्म तक बदलने को तैयार बैठे रहते हैं। रिपोर्ट है बैंगलोर से, जहाँ ऐसा ही मामला सामने आया है।

holi
“आलसी” धर्म के कुछ प्रचारक

इंजीनियरों के सरदार निकुंज तिवारी ने बताया कि “हम लोग नहाने से उतनी ही नफरत करते हैं जितना कुमार विश्वास केजरीवाल से! यही वजह है कि होली के रंगों से बचने के लिए हम धर्म बदलने की फिराक में हैं!”

“हम तो पहले ‘इस्लाम’ अपनाने के बारे में सोच रहे थे लेकिन किसी ने बताया कि जुम्मे-जुम्मे नहाना पड़ेगा और ‘रोज़े’ भी रखने पड़ेंगे, इसलिए आईडिया ड्रॉप कर दिया!” -निकुंज ने कारण समझाया।

हालाँकि अब इंजीनियरों ने कुछ अलग करने की ठान ली है। “हम अपना नया धर्म ‘आलसी’ लांच करेंगे, इसमें शामिल होने वाले इंजीनियरों को ना नहाने की पूरी छूट होगी! बल्कि जो नहीं नहाएगा, उसे ही हम अपना ‘ग़ुरू’ घोषित करेंगे! बोनस वाली बात ये है कि कोई भी त्यौहार बिना दारू के पूरी नहीं होगी! हमने इसकी अर्ज़ी सुप्रीम कोर्ट में डाल दी है, इजाज़त मिलते ही अपना नया धंधा शुरू कर देंगे!” -डगलस नाम के एक इंजीनियर ने बताया।

“जाहिर है, कुछ दिन बाद हम एक नया वोट-बैंक भी बन जाएँगे! अपना तो फिक्स है, जो पार्टी गर्लफ्रेंड देने का वादा करेगी उसे ही बल्क में वोट देंगे!” -कहते हुए डगलस ख्यालों में खो गए। खैर, अगर ये इंजीनियर अपना दिमाग़ नहाने से बचने की बजाय पढ़ाई-लिखाई में करते तो आज बेरोज़गारी का सामना नहीं कर रहे होते।



ऐसी अन्य ख़बरें