Monday, 16th September, 2019

चलते चलते

जनता को लूटने के लिये इंजीनियर ने खोल ली चिटफंड कंपनी, ग्राहकों ने ही कंपनी को लूट लिया

27, Jun 2019 By Ritesh Sinha

भोपाल. चिटफंड कंपनी आम लोगों को लूटने के लिए ही बनाई जाती है, और ज्यादातर ऐसी कंपनियाँ सक्सेस भी हो जाती हैं। भोले-भाले लोग इसमें अपना पैसा डाल देते हैं और कंपनी पैसा लेकर फरार हो जाती है। लेकिन क्या आपने एक ऐसी चिटफंड कंपनी का नाम सुना है जिसे उसके ग्राहकों ने ही लूट लिया हो।

engineer
लूटने के बाद अक्षय

जी हाँ, हम बात कर रहे हैं, ‘पैसा-ला’ चिटफंड कंपनी की, जो भोपाल एरिया में ऑपरेट कर रहा था। ये कंपनी अक्षय सिंह नाम के एक इंजीनियर ने शुरू की थी जो बेरोज़गारी से परेशान रहता था। इस कंपनी को शुरू करने के पीछे अक्षय का सिर्फ एक ही लक्ष्य था, बहुत सारा पैसा इकठ्ठा करना और एक दिन सारा पैसा समेटकर अपनी गर्लफ्रेंड के साथ रफू-चक्कर हो जाना।

लेकिन उसे क्या पता था कि सारा मामला उल्टा पड़ जाएगा और इन्वेस्टर्स ही उसे लूट लेंगे। हुआ यूँ कि, अक्षय ने अपने कस्टमर्स को ऑफर दिया कि दस हज़ार रुपये जमा करने पर एक महीने बाद आपको बीस हज़ार रुपये मिलेंगे। यह ऑफर सुनकर बहुत से लोगों ने पैसा जमा भी करा दिया।

पैसा जमा कराने वाले लोगों को अक्षय रसीद भी देता था और एक घटिया क्वालिटी का प्रेशर कूकर भी कॉम्पलीमेंटरी दे देता था। कूकर फ्री में पाकर लोग खुश हो जाया करते थे। रसीद देते हुए अक्षय कहता कि, “देखो! एक महीने बाद अपना दोगुना पैसा ले जाना मत भूलना, मैं यहीं मिलूँगा!”

सब कुछ ठीक चल रहा था कि इसी बीच किसी ने यह बात लीक कर दी कि ‘पैसा-ला’ चिटफंड कंपनी का मालिक कोई बड़ा बिजनेसमैन नहीं बल्कि एक बेरोज़गार इंजीनियर है। यह सुनते ही भोले-भाले लोगों में अचानक से अंडरटेकर की आत्मा समा गई।

नतीजा यह हुआ कि सभी इन्वेस्टर्स ने अक्षय के ऑफिस पर हमला बोल दिया और अपना सारा माल हड़प लिया। पीछे गोडाउन में जो कूकर स्टॉक में पड़े थे, उसे भी इन्वेस्टर्स लूट कर ले गए। कुछ उत्साही लोगों ने अक्षय पर हाथ साफ़ भी कर दिया।

इस तरह अक्षय को अपने इस नए प्रोजेक्ट में लगभग पाँच लाख का नुकसान उठाना पड़ा, पुलिस उसे कुत्ते की तरह ढूंढ रही है सो अलग। इस घटना से यह बात सिद्ध हो गई है कि इंजीनियर की जिंदगी में सक्सेस लिखा ही नहीं है।



ऐसी अन्य ख़बरें