Thursday, 21st November, 2019

चलते चलते

बाथरूम में 'एंटी बैक्टीरिया बल्ब' लगने के बाद से नहीं नहा रहा इंजीनियरिंग छात्र, कहा- बल्ब से ही मर जाते हैं सारे कीटाणु

26, Jun 2019 By नास्त्रेदमस

नयी दिल्ली. जिंदगी में खुशियाँ कब, कहाँ और कैसे मिल जाये, ये किसी को पता नहीं होता। ऐसा ही कुछ हुआ दिल्ली के ‘गलगोटिया इंजीनियरिंग कॉलेज’ के एक छात्र ईशान कुमार के साथ, जिसे हर रोज़ नहीं नहाने का एक वाजिब कारण मिल गया है।

bulb
नया बल्ब लगाता ईशान

दरअसल, ईशान को भी दूसरे इंजीनियरों की तरह नहाना जरा भी पसंद नहीं था, उसे लगता था कि शेविंग करने के बाद ये दुनिया का सबसे घटिया काम है। वो हमेशा इससे बचने के उपाय सोचता रहता था।

पिछले दिनों वो वर्ल्ड कप में इंडिया-पाकिस्तान का मैच देख रहा था, तभी टीवी पर एक ऐसा विज्ञापन आया, जिसे देखने के बाद ईशान की जिंदगी बदल गई।

एड में बताया गया कि नयी टेक्नोलॉजी की बल्ब से 90 प्रतिशत कीटाणु अपने आप मर जाएँगे, अलग से कोई रसायन छिड़कने की आवश्यकता नहीं है। यह सुनते ही ईशान के रोंगटे खड़े हो गये। “अच्छा! ये तो मेरे काम की चीज़ है!” -ईशान ने चहकते हुए कहा। उसे ऐसा लगा जैसे इंडिया ने अभी वर्ल्डकप जीत लिया हो।

मैच समाप्त होते ही वो दौड़कर बाजार गया और वो ऐतिहासिक बल्ब खरीदकर ले आया। इंजीनियरिंग की डिग्री का सही इस्तेमाल करते हुए उसने वह बल्ब खुद ही बाथरूम में लगाने का निर्णय कर लिया।

उस दिन के बाद से ईशान ने पानी को हाथ भी नहीं लगाया है। सुबह जल्दी उठकर बाथरूम में घुसता है और बल्ब चालू करके नीचे खड़ा हो जाता है। जब उसे लगता है कि शरीर के कीटाणु अब नष्ट हो गये होंगे, वो ऐसे सीना तान के बाहर निकलता है जैसे ठन्डे पानी से नहाकर आ रहा हो।

“जब बल्ब से सारे कीटाणु मर जाते हैं तो नहाने से क्या फायदा? इनफैक्ट, आपको तो मेरी तारीफ करनी चाहिए कि मैं पानी बचा रहा हूँ!” -ईशान ने हमारे हर रोज़ नहाने वाले रिपोर्टर को बताया। यही नहीं, ईशान अपने दोस्तों को भी इस नयी खोज के बारे में बता रहा है।



ऐसी अन्य ख़बरें