Wednesday, 22nd May, 2019

चलते चलते

"लंच टाइम है, बाद में आना!" -कहकर लंच लेकर आये बंदे को ही भगा दिया बैंक एम्पलॉई ने

16, Apr 2019 By बगुला भगत

मुंबई. बैंक कर्मचारियों के लंच टाइम के आपने बड़े-बड़े क़िस्से सुने होंगे लेकिन जैसा कल मुंबई में कांदिवली के एक बैंक कर्मचारी ने किया, वैसा कभी नहीं सुना होगा। उसने तो ‘लंच टाइम है’ बोलकर लंच लेकर आने वाले बंदे को ही भगा दिया!

lunch-time-in-bank
लंच टाइम के लिए उठकर जाते पांडुरंग बाबू

प्राप्त जानकारी के अनुसार, कांदिवली की फ़ेडरल बैंक ऑफ़ इंडिया (एफ़बीआई) की ब्रांच में कैशियर प्रभात पांडुरंग का पिछले हफ़्ते ही ट्रांसफ़र हुआ था और उन्होंने आज ही चार्ज संभाला था।

तो पांडुरंगजी हमेशा की तरह 12 बजे से ही लंच करने की तैयारी में जुट गये थे और चूंकि वो यहाँ नये-नये थे, इसलिए लंच डिलीवर करने वाले लड़के को जानते नहीं थे। तो जैसे ही वो लंच लेकर आया और बोला, “सर मैं…” तो पांडुरंग ने उसे देखे बगैर ही बोल दिया, “अभी लंच टाइम है, बाद में आना!”

उसने फिर कहा, “सर मैं वो ही…” तो पांडुरंग ने उसे कस्टमर की तरह झिड़कते हुए कहा- “बोला ना लंच टाइम के बाद आना!” डाँट सुनकर बेचारा लड़का लंच वापस लेकर चला गया। बाद में जब उन्हें लंच का इंतज़ार करते-करते तीन घंटे का पूरा लंच टाइम निकल गया, तो पता चला कि जिसे उन्होंने ‘लंच के बाद आना’ बोलकर भगाया था, वो तो लंच वाला लड़का ही था। मजबूरी में उन्हें भूखे पेट ही सॉलिटेयर खेलना पड़ा।

इस घटना के बाद, एफ़बीआई ने अपने सारे कर्मचारियों को सर्कुलर जारी कर दिया है कि किसी भी बंदे को वापस टरकाने से पहले अच्छे से चेक कर लें कि कहीं वो लंच लाने वाला बंदा या उनका कोई यार-रिश्तेदार तो नहीं है, उसके बाद ही उसे वापस भगायें।



ऐसी अन्य ख़बरें