Saturday, 26th May, 2018

चलते चलते

'व्हाट्सएप के family groups की वजह से गिरी है आस्था टीवी की टीआरपी: रिसर्च

13, May 2018 By Fake Bank Officer

जालंधर लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी में सिविल इंजीनियरिंग कर रहे कुछ होनहार छात्रों ने लंबी रिसर्च के बाद यह निष्कर्ष निकाला है कि व्हाट्सएप्प के फैमिली ग्रुप्स असल मे आस्था टीवी की गिरती हुई टीआरपी के लिए ज़िम्मेदार हैं। इस नतीजे तक पहुँचने के लिए उन्होंने करीब 50 से भी ज्यादा लोगों के मोबाइल चोरी छुपे चेक किये।

WhatsApp4
इसकी वजह से घट गई आस्था चैनल की TRP

रिसर्च से जुड़े एक छात्र मीका से हमारे संवाददाता ने बात की तो उन्होंने बताया कि “एक आम भारतीय कम से कम 5 अलग-अलग तरह के फैमिली ग्रुप्स का सदस्य होता है! हमने पाया कि इन फैमिली ग्रुप में ताऊ, बुआ, फूफा,मामा, जीजा आदि सभी प्रकार के रिश्तेदार होते हैं, जो किसी भी प्रकार के मज़ाक से बुरा मान सकते हैं! परिणामस्वरूप ऐसे ग्रुप में पोस्ट करने का सबसे सुरक्षित विकल्प प्रवचन ही होते हैं!” -मीका ने अपने ताऊजी के रोजाना आने वाले उपदेश दिखाते हुए कहा।

“हमने पाया कि ये प्रवचन सुबह 5 बजे से शुरू होकर रात 10 बजे तक चलते रहते हैं! अब आप ही बताइए अगर मोबाइल पर ही एक से बढ़कर एक उपदेश उपलब्ध हों तो भला कोई आस्था टीवी क्यों देखेगा! आप किसी फॅमिली ग्रुप का कोई भी मैसेज उठा कर देख लीजिये, या तो वह कोई प्रवचन होगा या हैप्पी बर्थडे का मैसेज!” -मीका ने आगे बताया।

व्हाट्सएप्प पर 40 फैमिली ग्रुप के सदस्य और 20 ग्रुप के एडमिन श्री आलोकनाथ, जिनको प्रवचन देने का 40 साल का अनुभव है, उनसे भी हमारे संवाददाता ने बात की। आलोकनाथ जी ने बताया कि “वो व्हाट्सएप्प पर केवल प्रवचन भेजते ही नही हैं, बल्कि वे प्रवचन लिखते भी हैं! जब तक आप फैमिली ग्रुप में सुबह-सुबह आठ दस नसीहतें ना भेज दो, आपको घर मे कोई गंभीरता से नही लेता!” आलोक नाथ जी ने यह भी बताया कि नियमित रूप से प्रवचन लिखकर वो बाज़ार में आसाराम के बाद खाली हुई जगह को भी भरना चाहते हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें