Friday, 22nd November, 2019

चलते चलते

पढ़ें: जासूसी के शिकार एक बड़े पत्रकार का सरकार को लिखा गोपनीय पत्र, जो लीक हो गया!

01, Nov 2019 By Tarun

एजेंसी. देश के एक जाने-माने जर्नलिस्ट ने ‘व्हॉट्सएप जासूसी काँड’ पर केंद्र सरकार को एक बेहद गोपनीय पत्र लिखा है, जो फ़ेकिंग न्यूज़ के हाथ लग गया है, लीजिए आप भी पढ़िये वो पत्र-

महोदय,

jurno
मोदी जी को चिट्ठी लिखते पत्रकार महोदय

मुझे नहीं लगता कि आप को परिचय देने की जरूरत है, आप तो सब जानते ही हैं। आपका मेरे बारे में सब जानना मुझे काफी परेशान कर रहा है। यह न सिर्फ मेरी निजता का हनन है बल्कि मानवाधिकारों पर किया गया कुठाराघात भी है।

आपके पास मेरी जो चैट, ई-मेल, फोन डीटेल्स, फोटो और वीडियो हैं उसमें से कई मेरे निजी इस्तेमाल के थे, जिनका मेरे काम से कोई लेना देना नहीं है, कृपा करें और उन्हें जल्द से जल्द डिलीट कर दें वरना नौकरी से पहले घर से निकाला जाऊंगा।

जो मैं सोशल मीडिया और पर्सनल चैट में आपके खिलाफ लिखता हूँ, प्लीज उसे अन्यथा ना लें। वैसे सच बताऊँ तो मैं मन से वर्तमान सरकार का प्रशंसक हूँ, सच में। वो तो मैं रौब झाड़ने और खुद को बड़ा सैक्युलरवादी पत्रकार साबित करने के लिए दोस्तों से ऐसी चैट करता था।

आप समझ सकते हैं कि एलीट होने की पहली शर्त सैक्युलर होना या यूँ कहें कि ‘सैक्युलर’ दिखना जरूरी होता है। उम्मीद करता हूँ कि आप मेरी मजबूरी को समझेंगे।

एक बात और, मैंने अपनी चैट में बार-बार जो ‘गुरु-चेला’ शब्द इस्तेमाल किया है इसका बुरा ना मानियेगा। ये नार्मल शब्द हैं, कान पकड़ता हूँ अब कभी ऐसे शब्दों का इस्तेमाल नहीं करूंगा।

मेरे दो बच्चें हैं, सर पर पहाड़ जैसा ‘ईएमआई’ का बोझ है, प्यारी सी गर्लफ्रेंड…सॉरी-सॉरी ‘पत्नी’ है.. सब गड़बड़ हो जाएगा।

प्लीज…प्लीज..मेरे पत्र पर जरूर गौर करिएगा और हाँ, ये मत कहिएगा कि आपने ये नहीं किया है, मैं ‘बड़ा’ पत्रकार हूँ, इतना तो जानता ही हूँ।

धन्यवाद!

नोटबंदी का मारा

कोलंबस सूजीकाहलवा



ऐसी अन्य ख़बरें