Thursday, 27th June, 2019

चलते चलते

क्रिसमस की सजावट में HR वाली बंदी खाना-पीना भी भूली, गश खाकर 'ट्री' पे गिरी

20, Dec 2018 By बगुला भगत

मुंबई. लोग अक्सर अपने ऑफ़िस के एचआर वालों पर ठाली-ठुल्ल रहने का आरोप लगाते हैं लेकिन उन्हें पता नहीं है कि वे बेचारे कितनी मेहनत करते हैं, ख़ास तौर पर क्रिसमस के मौक़े पर! नेटवर्क-16 के एचआर डिपार्टमेंट में काम करने वाली गीतांजलि गोडबोले ने तो दो दिन से इत्ती मेहनत की…इत्ती मेहनत की कि बेचारी को हॉस्पिटल में भर्ती होना पड़ गया।

गीतांजलि की देख-भाल कर रहे डॉक्टर नरेश तेरेहान का कहना है कि “क्रिसमस ट्री की सजावट की टेंशन की वजह से इन्हें हल्का डिप्रेशन हो गया है। लेकिन घबराने की कोई बात नहीं है, क्रिसमस जाते ही इनकी हालत एकदम नॉर्मल हो जायेगी।”

christmas-decorating
अपने क्रिसमस ट्री को निहारती गीतांजलि गोडबोले

गीतांजलि गोडबोले के कुलीग देवेश दिवाकर ने हादसे की जानकारी देते हुए बताया कि “जो गीतांजलि ज़्यादातर टाइम कैंटीन में ही बिताया करती थी, उस बेचारी को खाने-पीने का भी होश नहीं रहा। दो दिन से हाउस-कीपिंग वाले लड़कों के साथ गुब्बारे फुलाने में और लड़ियाँ लटकाने में लगी थी।”

“कल रिसेप्शन वाले क्रिसमस ट्री में चार स्टार कम रह गये। बस उसी बात को दिल से लगा बैठी पगली! कुछ खाया-पीया वैसे ही नहीं था और ऊपर से ये स्टार की टेंशन! बस हो गया डिप्रेशन!” -कहते हुए देवेश का गला भर्रा गया।

अपने ट्रैवल बिल पास कराने के लिये 2 महीने से एचआर डिपार्टमेंट के धक्के खा रहे मोहित शर्मा नाम के एम्पलॉई ने बताया, “अजी, सब इनके चोंचले हैं। अगर ट्री में एक स्टार कम रह गया तो कौन सा सैंटा क्लॉज श्राप दे देगा इन्हें या महारानी एलिज़ाबेथ नौकरी से निकाल देगी? हैं!”

उधर, फ़ेकिंग न्यूज़ का रिपोर्टर जब गीतांजलि से मिलने हॉस्पिटल पहुंचा तो वो बदहवाशी की हालत में थी। रिपोर्टर को हाउसकीपिंग वाला बंदा समझकर बड़बड़ाने लगी, “संजू, कहाँ हैं मेरे स्टार्स…कहाँ मेरे गुब्बारे? अब रिसेप्शन पे क्या लगाऊँगी मैं?” रिपोर्टर ने जैसे-तैसे अपना गिरेबान छुड़ाया और बोला, “अभी ला रहा हूं…बाहर रखे हैं।” और पतली गली से निकल लिया।



ऐसी अन्य ख़बरें