चलते चलते

"पाँच साल में एक बार तो अपने मन की करुँगा!", राष्ट्रपति कोविंद ने सरकार को डराया

13, Dec 2019 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने केंद्र सरकार को चेतावनी दी है कि अपने 5 साल के कार्यकाल के दौरान वो कम से कम एक बार अपनी मर्ज़ी से फ़ैसला लेंगे। हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि वो कौन सा साल और कौन सा दिन होगा, जब वो अपने मन की करेंगे।

President-Kovind
अपनी मनमर्ज़ी चलाने की परमिशन माँगते महामहिम

लेकिन यह सुनते ही प्रधानमंत्री मोदी समेत पूरे मंत्रिमंडल को चक्कर आ गया। सब लोग यह सोच-सोचकर परेशान हैं कि वो कौन सा बिल होगा, जिस पर वो साइन करने से मना करेंगे।

राष्ट्रपति जी ने यह बात CAB की फ़ाइल पर साइन करते समय कही। वैसे तो वो साइन करने के लिए शाहजी के पास ख़ुद ही पहुँचने वाले थे लेकिन शाहजी ने उन्हें यह कहते रोक दिया कि “लोग फालतू में बातें बनाएँगे, आप उधर ही रहो, मैं फ़ाइल लेकर लड़का (कैबिनेट सेक्रेटरी) भेज रहा हूँ!”

राष्ट्रपति भवन के सूत्रों ने बताया कि इनसे पहले राष्ट्रपति रह चुकीं प्रतिभा पाटील भी कभी अपनी मर्ज़ी नहीं चला पायी थीं। केंद्र सरकार ने जो सामने रख दिया, उन्होंने उसी पर साइन कर दिये।

“वैसे तो हमारे महामहिम आँख मूँदकर भी साइन कर सकते थे लेकिन क्या करें, आँख बंद करने के बाद उन्हें दिखता ही नहीं!” – ऑफ़िसर ने राज़ की बात बताते हुए कहा।



ऐसी अन्य ख़बरें