Saturday, 19th January, 2019

चलते चलते

अपनी बायोपिक के पोस्टर में विवेक को देख भड़के मोदी- "मेरे लिए यही बचा था क्या!"

10, Jan 2019 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी बायोपिक के पोस्टर को देखकर बुरी तरह से भड़क गये हैं। जैसे ही उन्होंने पोस्टर में विवेक ओबेरॉय को अपने गेटअप में देखा तो उन्होंने तुरंत शाहजी को फ़ोन लगाया और बोले- “ये फ़िल्म किसी भी हाल में रिलीज़ नहीं होनी चाहिए!”

Modi-Biopic
“क्या यही बचा था मेरे लिये!”

“एक तो पहले ही भद्द पिटी पड़ी है, रही-सही कसर इसने पूरी कर दी!” -मोदीजी ने कहा तो उधर से शाहजी बोले- “पहले पिक्चर तो आने दीजिए, हो सकता है उसमें ठीक लग जाये!”

“पिक्चर क्या देखनी है अब! पूत के पाँव तो पोस्टर में ही दिख गये!” -यह कहकर वो चुप हो गये। फिर अचानक सर खुजाते हुए बोले, “कहीं ये कांग्रेस का काम तो नहीं है?” तो शाहजी ने हैरानी से पूछा- “क्या…कौन सा काम?”

“यही! मेरी फ़िल्म में विवेक को लेने का!” “मुझे तो लगता है कि इसका पापा सुरेश ज़रूर कांग्रेसी एजेंट है, जिसने मेरी इमेज ख़राब करने के लिए अपने इस निखट्टू बेटे को मेरा रोल दिया है। अभी पता लगाता हूँ इस बात का!” यह कहकर उन्होंने फ़ोन रख दिया।

इधर उन्होंने फ़ोन रखा और उधर एनआईए ने मामले की जाँच शुरु भी कर दी। वो यह भी पता लगा रही है कि कहीं मोदीजी के नाम को बट्टा लगाने के लिए सुरेश को आईएसआई से पैसा तो नहीं मिला?

इस बीच, यह भी पता चला है कि मोदीजी इस बात से ज़्यादा कुपित हैं कि विवेक ओबेरॉय की लास्ट फ़िल्म ‘बैंक चोर’ थी। उन्हें डर है कि मेरे रोल में देखकर लोग उसे नोटबंदी और माल्या से ना जोड़ने लगें!



ऐसी अन्य ख़बरें