Thursday, 21st November, 2019

चलते चलते

'जिस मगरमच्छ को मोदीजी ने बचपन में पकड़ा था, उसी का पोता आया था बदला लेने' - जंगली सूत्र

24, Jun 2019 By बगुला भगत

वडनगर. गुजरात में महिसागर ज़िले के पल्ला गाँव के मंदिर में कल रात एक मगरमच्छ घुस गया, जिसे देखने के लिए लोगों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी और वे चमत्कार समझकर उसकी पूजा करने लगे। लेकिन अब इस घटना के पीछे कुछ और ही कहानी पता चली है!

Bal-Narendra-Croc
इसी मगरमच्छ का पोता आया था कल रात

जंगली सूत्रों से पता चला है कि पल्ला गाँव के मंदिर में जो मगरमच्छ आया था, वो कोई ऐसा-वैसा मगरमच्छ नहीं था बल्कि वो उसी मगरमच्छ के ख़ानदान से ताल्लुक रखता है, जिसे मोदीजी ने बचपन में पकड़ा था। कुछ चश्मदीदों का दावा है कि वो ‘मोदी…मोदी’ भी कर रहा था।

जिसे देखकर चश्मदीद कहने लगे कि मोदीजी की लोकप्रियता इतनी बढ़ गयी है कि भक्तों के अलावा अब दूसरे जानवर भी उनका नाम जप रहे हैं। जबकि विशेषज्ञों का इस बारे में कुछ और ही कहना है!

अहमदाबाद के वन्य प्राणि संस्थान के महानिदेशक पीके परमार का कहना है कि वो मगरमच्छ मोदीजी के समर्थन में ‘मोदी-मोदी’ नहीं चिल्ला रहा था बल्कि वो उन्हें बदला लेने के लिए ढूँढ रहा था। जिस तरह साँप की आँखों में मारने वाले की फोटो खिंच जाती है, उसी तरह कुछ दूसरे जीव-जन्तु भी अपने घरवालों को अपना उत्पीड़न करने वाले का नाम-पता बता देते हैं।

“अगर ऐसा नहीं है तो ये मगरमच्छ गुजरात में ही क्यों निकला, पंजाब या हरियाणा के किसी गाँव में क्यों नहीं निकला?” -परमार ने रहस्यमयी नज़रों से देखते हुए सवाल पूछा।

इस घटना के बाद राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने देश के सभी मगरमच्छों पर नज़र रखने के आदेश दिये हैं और मगरमच्छ को देखते ही गोली खिलाने के आदेश दिये हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें