Friday, 19th October, 2018

चलते चलते

"हमारी जेलों में अमीरों को दुनिया के सारे मज़े मिलते हैं" -भारत सरकार ने लंदन कोर्ट को बताया

01, Aug 2018 By बगुला भगत

नयी दिल्ली/लंदन. भगोड़े कारोबारी विजय माल्या के वकील ने कल लंदन की अदालत में कहा कि भारत की जेलों में अमीर लोगों को ढंग से हवा-पानी भी नहीं मिलता! जिसे सुनकर भारत सरकार बुरी तरह से बिफ़र गयी है। सरकार ने इसे भारतीय जेलों का अपमान बताया है।

subrata-roy-jail
लंदन की कोर्ट को अपने जेल के मज़े बताते सुब्रत रॉय

पलटवार करते हुए भारत सरकार ने लंदन कोर्ट को देश की अलग-अलग जेलों के कई सारे वीडियो भेजे हैं, जिनमें क़ैदी पार्टी कर रहे हैं, एसी में लेट रहे हैं, दस-दस मोबाइलों पर बात कर रहे हैं।

गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने लंदन कोर्ट को बताया कि “हमारे देश की जेलों में क़ैदियों को ऐसी-ऐसी सुविधाएँ मिलती हैं…ऐसी-ऐसी सुविधाएँ मिलती हैं, जैसी आपके देश में जेल से बाहर भी नहीं मिलतीं। शर्त बस ये है कि आप बहुत रईस हों, बाहुबली हों या फिर कोई नेता हों!”

“हाँ! ग़रीब-गुरबा की बात अलग है। उनके लिये तो हमारी जेलें साक्षात नरक हैं! ग़रीब क़ैदी ने तो अगर जुर्म ना भी किया हो, तो भी वो सालों-साल जेल में सड़ता रहता है। उसे जानवरों जैसा खाना मिलता है, जमकर कुटाई होती है और रात को यौन शोषण होता है सो अलग!”

“माल्या जी कोई ग़रीब-गुरबा थोड़ी हैं। फिर आप फालतू में क्यूँ डर रहे हो!” -प्रवक्ता जी ने ही…ही…ही करते हुए कहा।

दरअसल, माल्या के वकील की दलील के बाद लंदन की कोर्ट ने भारत सरकार से जेल का वीडियो माँगा था। लेकिन अब केंद्र सरकार द्वारा भेजे इन वीडियोज के बाद माल्या के प्रत्यर्पण की संभावनाएँ बढ़ गयी हैं।

उधर, सुब्रत रॉय सहारा ने भी तिहाड़ से अपने एसी वाले कमरे का वीडियो व्हॉट्सएप करके माल्या से आने की अपील करते हुए कहा है कि “आ जाओ यार, साथ में मज़े करेंगे!”



ऐसी अन्य ख़बरें