Friday, 19th October, 2018

चलते चलते

सिगरेट वाले के पास एक रूपया भी उधार ना होने पर इंजीनियरिंग कॉलेज ने छात्र की डिग्री रोकी

08, Oct 2018 By Guest Patrakar

कोटा. इंजीनियरिंग कॉलेज और जादू में कुछ भी संभव है। हाल ही में कोटा के मशहूर इंजीनियरिंग कॉलेज ने एक छात्र की डिग्री सिर्फ इसलिए रोक दी क्योंकि अन्य लड़कों की तरह उसका किसी भी पान दुकान में उधार नहीं था। आरोपी लड़का सिगरेट तो पीता है लेकिन नकदी पैसे देकर! माना जा रहा है कि इस बात की शिकायत मिश्रा जी ने की है, जो वहीँ कॉलेज के सामने पान की दुकान चलाते हैं। मिश्रा जी के शिकायत को कॉलेज प्रशासन ने गंभीरता से लिया है।

Paagal-Paan-Bhandar
आकाश की शिकायत करने वाले पान वाले भाईसाब!

मामले की अधिक जानकारी लेने के लिए हमने कॉलेज के डीन महेश कनपटिया जी से बात की। उन्होंने बताया कि, “आपने बिल्कुल सही सुना है, हमने एक लड़के का रिजल्ट रोक दिया है! जैसा कि आप जानते हैं ‘इंजीनियर’ का दूसरा नाम ही ‘उधार’ होता है!”

“ऐसे में अगर सब बच्चे उधार कर रहे हैं और एक बच्चा नक़द में काम चला रहा हो तो उसे इंजीनियर कहलाने का कोई हक़ नहीं है! बस, इसीलिए हमने उसकी डिग्री रोक ली। अपने तीस साल के कैरियर में मैंने एक भी इंजीनियर नहीं देखा जो उधार नहीं लेता हो, ये पहला मामला है, पता नहीं ये लड़का यह पाप क्यों कर रहा है?” -डीन ने गुटखा थूकते हुए कहा।

इसके बाद हमने पीड़ित लड़के आकाश से भी बात की, आकाश ने कहा “मेरे साथ अन्याय हो रहा है, हाँ मैं मानता हूँ मेरा कहीं पर उधार नहीं है, लेकिन मैंने इसके अलावा ऐसा कोई काम नहीं छोड़ा जो एक इंजीनियर ना करता हो! हर सेमेस्टर में मेरी अटेंडेंस आधी है, पूरे कोर्स में मुझसे एक भी लड़की नहीं पटी, नहाना तो जैसे मैंने छोड़ ही दिया है! अब मेरी एक छोटी सी ग़लती की वजह से मेरी डिग्री रोकी जा रही है, ये तो गुंडागर्दी है! अगर उन्हें विश्वास ना हो तो मेरा बटुआ देख कर पता लगा लो कि मैं इंजीनियर हूँ भी या नहीं!”

फ़िलहाल आकाश के माँ-बाप को अगले हफ़्ते कॉलेज में  बुलाया जाएगा, अब देखना होगा कि क्या उसके माता-पिता उसे डिग्री दिलवा पाते हैं या नहीं?



ऐसी अन्य ख़बरें