Saturday, 18th August, 2018

चलते चलते

पनामा वाले 5 हज़ार रुपये जमा करने बैंक पहुँचे अमिताभ, मैनेजर ने कहा- "लंच के बाद आना!"

25, Jul 2018 By बगुला भगत

मुंबई. बॉलीवुड के शहंशाह अमिताभ बच्चन आये दिन कोई ना कोई अच्छा काम कर रहे होते हैं। कभी वो पेड़ लगाने को कह रहे होते हैं तो कभी देश को ‘साफ़’ करने का मैसेज दे रहे होते हैं। अपनी अच्छाई की इसी आदत की वजह से वो आज सुबह-सुबह अपना वो बकाया टैक्स चुकाने बैंक जा पहुँचे, जो ग़लती से पनामा में जमा हो गया था। लेकिन बैंक के अधिकारियों ने उन्हें लंच के बाद आने को कह दिया।

amitabh-bachchan-tax-money-420
टैक्स जमा करने के लिए अधिकारियों से ज़िद करते बच्चन साब

हुआ यूँ कि बच्चन साब को आज सुबह अचानक याद आया कि “अरे! मुझ पे तो ग़लती से काफ़ी सारा टैक्स बचा हुआ है। सफ़ाई की एड करने के चक्कर में याद ही नहीं आया! मेरे जैसा बड़ा आदमी ऐसा करे, ये अच्छी बात नहीं है। और अगर मोदी जी को पता चल गया तो वो क्या सोचेंगे! हँय…हँय! ” -यह सोचते ही वो ऑटो लेकर बैंक के लिए निकल पड़े और साथ में बेटी श्वेता को भी ले लिया।

बैंक में पहुँचते ही बच्चन साब मैनेजर के रूम में जाकर बोले, “मुझ पे देश का थोड़ा सा टैक्स बकाया है, जो मिस्टेक से पनामा पहुँच गया था। मुझे वो जमा करना है।” यह सुनते ही मैनेजर ने उन्हें आँख फाड़कर देखा और कहा, “तो उस पैसे से पार्टी कीजिए ना अंकल!”

“नहीं जमा करना है तो करना है!” -बच्चन साब अड़ गये। उन्हें ना मानते देख मैनेजर बोला, “बड़ा लंबा चक्कर है, छोड़िए ना! किसको पता चलेगा!” इस पर बच्चन साब ने अपनी छड़ी पटकते हुए कहा- “मुझे पता है! किसी को पता चले ना चले! ग़लत तो ग़लत है!

हक्का-बक्का मैनेजर उनका मुँह ताकने लगा तो बच्चन साब अपनी गरज़ती हुई आवाज़ में बोले, “अपने भी कुछ उसूल हैं और जहाँ उसूल है, वहाँ भरोसा है और भरोसा ही सबकुछ है! हँय…हँय!”

अंतिम समाचार मिलने तक बच्चन साब बैंक में जमे बैठे थे और कह रहे थे कि “टैक्स जमा किये बिना यहाँ से जाऊँगा नहीं!” ौर बैंक के सारे अधिकारी उन्हें समझा-बुझा रहे थे।



ऐसी अन्य ख़बरें