Thursday, 27th February, 2020

चलते चलते

'तीन बजे के बाद वाले सारे वोटर कहाँ चले गये?' -मनोज तिवारी ने चुनाव आयोग से पूछा

11, Feb 2020 By Ritesh Sinha

एजेंसी. दिल्ली में आठ तारीख को लगभग तीन बजे के बाद जमकर वोटिंग हुई थी, बीजेपी ने दावा किया था कि शाम के वक़्त जितने भी वोट पड़े हैं, वो सब भाजपा के खाते में जाएंगे क्योंकि वो सब हमारे वोटर थे!

manoj-tiwari
चुनाव आयोग के दफ्तर जाते तिवारी जी

दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने तो इन्हीं वोटरों के बल पर 41 सीट जीतने का दावा तक दिया था। हालाँकि ऐसा कुछ भी नहीं हुआ, नतीजों से स्पष्ट है कि केजरीवाल फिर से भारी बहुमत से सरकार बनाने जा रहे हैं। तीन बजे के बाद वाले वोटर भी ‘आप’ के ही निकले।

उधर, इन सबसे मनोज तिवारी को तगड़ा झटका लगा है, उसे कुछ समझ नहीं आ रहा है कि तीन बजे के बाद वाले सारे वोटर कहाँ चले गए? इसी बात की तह तक जाने के लिए उन्होंने चुनाव आयोग के दफ्तर पर धावा बोल दिया और मुख्य चुनाव आयुक्त को डराने-धमकाने लगे।

उस समय उनकी आँखों में खून दौड़ रहा था, सामने पड़े टेबल पर मुक्का मारते हुए उसने CEC से पूछा- “ये तीन बजे के बाद वाले सारे वोटर कहाँ चले गये? तूने गड़बड़ तो नहीं कर दी गिनने में? बता, कहाँ छिपाया है तूने, वरना मुझसे बुरा कोई नहीं होगा?”

अचानक हुए इस हमले से मुख्य चुनाव आयुक्त हड़बड़ा से गये। बाद में अपने आप को संभालते हुए बोले- “देखिए! शांत हो जाइए, ऊँची आवाज में बात मत कीजिये, आचार संहिता अभी भी लागू है, अंदर भी करवा सकता हूँ आपको!

लगता है रिजल्ट देखकर आपका मानसिक संतुलन बिगड़ गया है, हार के बाद ऐसा हो ही जाता है, थोड़ी देर आराम कीजिए, सब ठीक हो जाएगा! गजोधर, इसे पानी पिलाओ!” -CEC ने तिवारी को अपने से दूर धकेलते हुए कहा।

CEC के तेवर देखकर ‘तिवारी’ ठंडे पड़ गये। उन्होंने अपना माथा पकड़ लिया और दीवार का सहारा लेते हुए कुर्सी पर पसर गये। “कहाँ चले गये मेरे तीन बजे के बाद वाले वोटर! तेरा ही तो सहारा था, अब तूने भी मुझे धोखा दे दिया, हाय रे मेरे तीन बजे के बाद वाले वोटर!” -तिवारी माथा पीटने लगा, तब तक गजोधर पानी लेकर आ गया। मामला शांत हो गया।

उधर, अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया है कि बीजेपी ने इस बार सिर्फ ‘सिसोदिया’ की सीट पर EVM हैकिंग की है और बाकी में ऐसा करना भूल गए हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें