Thursday, 21st November, 2019

चलते चलते

जब तक कुमारस्वामी के आँसू नहीं निकलते उनका भाषण पूरा नहीं माना जाएगा: वोटिंग में हो रही देरी पर बोले स्पीकर

19, Jul 2019 By Ritesh Sinha

बैंगलोर. कर्नाटक में पिछले दो सप्ताह से चल रहा सियासी नाटक खत्‍म होने का नाम नहीं ले रहा है, कांग्रेस-JDS को बहुमत साबित करने के लिए राज्यपाल ने आज दोपहर तक का समय दिया था, जो पहले ही समाप्त हो चुका है। इस पूरे घटनाक्रम में विधानसभा स्पीकर की भूमिका भी संदेह के घेरे में है, लगातार दो दिनों तक बहस चलाने के बाद भी वो डिवीजन कराने में असमर्थ रहे हैं। इस बारे में हमने स्पीकर महोदय से बात की और इस देरी का कारण पूछा।

kumaraswamy कर्नाटक
रोना जरूरी है!

टाल-मटोल करने में उस्ताद स्पीकर के. रमेश जी ने लंच करते हुए बताया कि, “देखिए! सब मुझ पर आरोप लगा रहे हैं कि मैं इस सरकार को बचाने का प्रयास कर रहा हूँ लेकिन ये सच नहीं है! मैं वोटिंग इसलिए नहीं करवा रहा क्योंकि सीएम साब, यानि कुमारस्वामी जी का भाषण अभी पूरा नहीं हुआ है!” -उन्होंने जूस का एक गिलास खाली करते हुए कहा।

“लेकिन वो तो पहले ही दो घंटे से ज्यादा बोल चुके हैं?” -हमारे रिपोर्टर ने प्रश्न किया तो स्पीकर महोदय ने जवाब दिया कि, “हाँ, मुझे मालूम है लेकिन उनके ‘आँसू’ तो अब तक नहीं निकले ना! पूरा सूखा-सूखा भाषण था!

जब से सीएम बने हैं हमेशा रोते ही रहते हैं, कहीं पर दस मिनट का भाषण भी देना हो तो आखिर में उनके आँसू निकल ही पड़ते थे! पता नहीं आज दो घंटा बोलने के बाद भी वो कैसे रो नहीं पाये!

“इसीलिए मैं वोटिंग नहीं करा रहा हूँ, जब तक कुमारस्वामी जी के आँसू नहीं टपकते, उनका भाषण अधूरा माना जाएगा! वो क्या है ना, हमें आदत सी पड़ गई है उन्हें सुबकते हुए देखने की!” -स्पीकर साब ने डकार लेते हुए कहा।

उधर, कुमारस्वामी को भी स्पीकर साब के इस मज़बूरी का पता चल गया है, इसलिए उन्होंने भी अगले एक महीने तक बिना रोये ही भाषण देने का प्लान बना लिया है।



ऐसी अन्य ख़बरें