Tuesday, 22nd October, 2019

चलते चलते

जिन्होंने ये विश्वास कर लिया था कि 2000 के नोट में चिप है, वे भी आज शशि थरूर की बातों पर यकीन नहीं करते: सर्वे

26, Sep 2019 By Ritesh Sinha

नयी दिल्ली. एक ताजा सर्वे में पता चला है कि नोटबंदी के समय जिन लोगों ने यह विश्वास कर लिया था कि दो हज़ार के नोट में इलेक्ट्रॉनिक चिप लगा हुआ है, वे भी आजकल शशि थरूर की किसी बात पर यकीन नहीं करते हैं। उनका कहना है कि नोट में चिप वाली बात, एक बार सही भी लगती है लेकिन शशि थरूर की बातों को जब तक हम वैरिफाई कही कर लेते, हम विश्वास नहीं करेंगे।

shashi tharoor
मैं ऐसा ही हूँ!

हर अफवाह पर यकीन करने वालों ने भी शशि थरूर की बातों पर ध्यान देने से मना कर दिया है। ऐसे ही एक युवक भुवन ने बताया कि, “नोटबंदी के टाइम जब मुझे पता चला कि 2000 के नये नोट में चिप लगा हुआ है तो मैंने तुरंत विश्वास कर लिया था!

मैंने इस खबर को जमकर शेयर भी किया और जो लोग इस पर विश्वास नहीं कर रहे थे उसे ‘एंटी-नेशनल’ भी कहा था! बहुत मज़ा आया था उस टाइम, वो दौर ही अलग था भाईसाब! आज भी हम किसी भी बात पर यकीन कर लेते हैं, शशि थरूर की बातों को छोड़कर!

ये ‘थरूर’ अलग ही लेवल का बंदा है, अभी पिछले दिनों उसने रूस में खींची गयी फोटो को अमेरिका का बता दिया था! आये दिन वो ट्विटर पर फैक्ट्स के साथ छेड़छाड़ करते रहते हैं! नोट में चिप वाली बात तो ठीक थी लेकिन थरूर की कोई बात हमारे गले नहीं उतरती!” -भुवन ने आगे बताया।

उधर, इस मामले पर हमने शशि थरूर का पक्ष भी जानने की कोशिश की। उन्होंने अपनी भाषा में जो कुछ भीकहा कहा, उसका हिंदी अनुवाद इस प्रकार है कि, “देखिए! माना कि मेरी बातों में ऊँच-नीच होती रहती है लेकिन देश के प्रधानमंत्री भी तो इतिहास, गणित और डाटा से छेड़छाड़ करते रहते हैं, उन्हें तो कोई कुछ नहीं कहता? सब मेरे पीछे पीछे क्यों पड़ जाते हैं?

वैसे भी मैं ऑक्सफ़ोर्ड से पढ़कर आया हूँ, अब इतना तो सहन करना पड़ेगा लोगों को!” -थरूर ने आगे कहा और फिर से किसी खबर को तोड़-मरोड़कर पेश करने निकल पड़े।



ऐसी अन्य ख़बरें