Tuesday, 19th November, 2019

चलते चलते

थर्ड फ्रंट के नेताओं ने 'एक-दूसरे को धोखा नहीं देंगे' वाले पेपर पे साइन करने से इनकार किया, ममता दीदी हुईं निराश

28, Mar 2018 By Ritesh Sinha

कोलकाता. 2019 का चुनाव लड़ने के लिए ममता बैनर्जी तीसरे मोर्चे के लिए पूरा ज़ोर लगा रही हैं, ताकि गैर-भाजपा और गैर-कांग्रेसी विकल्प के रूप में वोट हासिल किया जा सके। इसी सिलसिले में कल उन्होंने कोलकाता में एक बड़ी  रैली की और थर्ड-फ्रंट के नेताओं से मुलाकात भी कर ली। लेकिन चौंकाने वाली बात यह रही कि थर्ड-फ्रंट के सभी नेताओं ने ‘एक दूसरे को धोखा नही देंगे!’ वाले पेज पर साइन करने से इनकार कर दिया। नतीजा यह हुआ कि ब्रिगेड मैदान से ‘दीदी’ को खाली हाथ ही लौटना पड़ा।

mamata-banerjee
“कैसे साइन कराऊँ…कैसे साइन कराऊँ!”

मंच पर सबसे पहले वो कागज़ात लेकर चंद्रबाबू नायडू के पास गए। “क्यों नायडू जी! तीसरा मोर्चा बनाना है कि नहीं?” -ममता ने चॉय सिप करते हुए पूछा। “बिल्कुल बनाना है! आपने तो मेरे मुंह की बात छीन ली!” -चन्द्रबाबू ने जवाब दिया। “तो फिर इस पेपर पर साइन कर दीजिए!”

“क्या लिखा है इसमें?”नायडू जी ने पूछा। “इसमें लिखा है कि हम एक दूसरे को कभी धोखा नहीं देंगे!” -कहते हुए ममता दी ने एक पेज आगे बढ़ा दिया। इसके बाद तो नायडू जी का चेहरा देखने लायक था। “मैं तो यहाँ घूमने-फिरने आया हूँ, कोरे गागज़ों पर साइन करने नहीं!”-कहते हुए उन्होंने वो पेपर वापस ‘दीदी’ को थमा दिया।

आंध्रदेश से खाली हाथ वो लखनऊ चली आईं और सीधे मायावती के पास जा पहुँचीं। बहन जी तो वह कागज़ देखते ही आग बबूला हो उठीं। “जाइए, पहले ‘टीपू’ के पापा का साइन लेकर आइए जो यूपी में हमारा वोट काटने पर तुले हुए हैं, मैं तब साइन करुँगी!” -मायावती ने अपना महंगा पर्स संभालते हुए कहा।

बहन जी के तेवर देखकर दीदी ने अपना ‘शपथ-पत्र’ उठाया और सीधा टीपू के पास पहुँच गईं। टीपू ने भी उन कागजों पर साइन करने से इनकार कर दिया।

इसके बाद दीदी केजरीवाल के पास गईं, उन्होंने पेपर केजरीवाल जी को थमाते हुए कहा- “कम से कम आप तो साइन कर दीजिए?” केजरीवाल ने पेपर पर सरसरी निगाह डाली और बोले- “हम ऐसा नहीं कर सकते! हमारी नीयत कब डोल जाए ये तो हमें भी पता नहीं होता! फिर हम इस पेज पर साइन कैसे कर सकते हैं?”

इसके बाद शरद पवार और तेजस्वी यादव ने भी उन्हें कुछ ऐसा ही जवाब दिया। थक-हारकर वो शाम को अपने सीएम ऑफिस लौट आईं। “सब के सब निकम्मे हैं! खैर, कुछ दिन बाद फिर से कोशिश करुँगी!” -रात को सोते समय ममता दी बड़बड़ा रही थीं।



ऐसी अन्य ख़बरें