Saturday, 20th April, 2019

चलते चलते

कांग्रेस के घोषणापत्र की कड़ी निंदा करने गए राजनाथ सिंह ने कन्फ़्यूजन में अपने ही घोषणापत्र की कर डाली कड़ी निंदा

10, Apr 2019 By किल बिल पांडे

नयी दिल्ली. कहते हैं कि किसी काम को इतनी शिद्दत से करो कि वो तुम्हारी पहचान बन जाये और लोग तुम्हें उसी से जानें। अपनी ‘कड़ी निंदा’ के लिए दुनिया भर में मशहूर राजनाथ सिंह से कल इसी चक्कर में गड़बड़ हो गयी, जब उन्होंने अपनी ही पार्टी के घोषणापत्र की कड़ी निंदा कर डाली।

rajnath-kadi-ninda
कड़ी निंदा करते राजनाथ सिंह

दरअसल, राजनाथ गए तो थे कांग्रेस के घोषणापत्र की कड़ी निंदा करने पर जल्दबाज़ी में वो अपनी ही पार्टी का घोषणापत्र उठाकर ले गए। और उन्होंने एक बार घोषणापत्र खोल कर कड़ी निंदा करनी शुरु की तो बिना रुके लगातार तीन घंटे तक कड़ी निंदा करते रहे।

लेकिन जब बोलते-बोलते अचानक राम मंदिर का ज़िक्र आया तो वहाँ मौजूद प्रवक्ताओं और संवाददाताओं का माथा ठनका। जैसे ही सबको एहसास हुआ कि दाल में कुछ काला है तो ‘अरनब’ नामक प्रवक्ता ने चुपचाप मुख्यालय की पावर सप्लाई काट दी।

अचानक मची भगदड़ के बीच फ़ेकिंग न्यूज़ के जुझारू रिपोर्टर ने राजनाथजी को ढूँढकर उनसे इस गड़बड़ की वजह जाननी चाही तो उन्होंने कहा, “मुझे कैसे पता चलता कि वो किसका घोषणापत्र है!  कम से कम कवर पेज पर मेरी फोटो तो लगा देते। मुझे तो आदत है अपने फोटो वाले घोषणापत्र की तारीफ करने की!”

पार्टी के सूत्रों के अनुसार पूरे कांड को जिस अव्यवस्थित तरीके से हैंडल किया गया है, उससे आलाकमान ख़ुश नहीं है। इस कांड के बाद आलाकमान को यकीन हो गया है कि ऐसे भव्य स्तर के हादसों को सँभालने का सामर्थ्य सिर्फ संबित पात्रा में ही है।



ऐसी अन्य ख़बरें