Wednesday, 19th December, 2018

चलते चलते

राहुल गाँधी का भाषण सुनकर कुंभकरण की नींद उड़ी, वापस सुलाने के लिए सुनाया जाएगा मोदी जी का भाषण

05, Dec 2018 By Ritesh Sinha

झुंझुनू. राहुल गाँधी के भाषणों का साइड इफ़ेक्ट अब दिखने लगा है, सूचना मिली है कि स्वयं कुम्भकरण उनका भाषण सुनकर नींद से जाग गए हैं और अब सोने का नाम नहीं ले रहे हैं। लिहाजा उन्हें नींद की गोलियाँ खिलाई जा रही हैं लेकिन गोलियों का भी कोई असर नहीं हो रहा है। माना जा रहा है कि छः महीने तक लगातार सोने वाले कुम्भकरण को अब नींद ना आने की बीमारी लग गई है।

kumbhakaran
सोने का नाम नहीं ले रहे हैं कुंभकरण

हमारे स्वर्ग बीट के रिपोर्टर ने बताया कि, “झुंझुनू की रैली में जब राहुल गाँधी ने ‘कुम्भकरण लिफ्ट योजना’ का जिक्र किया तो तो वे अपना रेफरेंस पाकर खुद नींद से जाग उठे। उठते ही उन्होंने ध्यान से राहुल का भाषण सुनना शुरू कर दिया कि आखिर ये मुझे क्यों पुकार रहा है?

बस, यहीं पर कुम्भकरण ने बहुत बड़ी गलती कर दी। थोड़ी देर उनका भाषण सुनने के बाद उन्ह्र झुंझलाहट होने लगी और वो अपना सर पीटने लगे। इस घटना का उन पर इतना बुरा असर हुआ कि वो तब से एक बार भी सोने का नाम नहीं ले रहे हैं।

फ़ेकिंग न्यूज़ से बात करते हुए कुम्भकरण ने बताया कि, “मुझे लगा था कि कोई युद्ध वगैरह शुरू हो गया है इसलिए मुझे याद किया जा रहा है, लेकिन जब मैं उठा तो पता चला कि यहाँ तो चुनाव नाम का ढकोसला चल रहा है! इस टाइप की हरकतें मुझे जरा भी पसंद नहीं है! देखो ना, जब से उसका भाषण मैंने सुना है मुझे नींद ही नहीं आ रही है?” -कहते हुए उन्होंने एक कंटेनर नींद की गोली मुँह में डाल ली।

इस बीच कुम्भकरण के लिए एक अच्छी खबर आई है। डॉक्टरों ने कुंभकरण को वापस निद्रा में भेजने का उपाय ढूंढ निकाला है। दरअसल, प्रधानमंत्री मोदी आज भी राजस्थान में चुनावी रैली करने वाले हैं, अगर कुंभकरण ने उनका भाषण एक घंटे के लिए सुन लिया तो वो फिर से तीन-चार सालों के लिए चिरनिद्रा में चले जाएँगे। “उनका भाषण सुनकर तो संबित पात्रा सो जाते हैं फिर कुंभकरण किस खेत की मूली है!” -कुंभकरण के फैमिली डॉक्टर शुक्राचार्य ने बताया।



ऐसी अन्य ख़बरें