Tuesday, 19th November, 2019

चलते चलते

'पार्टी' की साँस अभी भी चल रही है, लगता है मेरा काम अभी पूरा नहीं हुआ है!' -कहते हुए राहुल ने इस्तीफ़ा वापस लिया

08, Jul 2019 By Ritesh Sinha

नयी दिल्ली. सूत्रों से पता चला है कि राहुल गाँधी ने अपनी जिद छोड़ दी है और वो फिर से कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष बनने के लिए राजी हो गये हैं। कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता ग़ुलाम नबी आजाद कल शाम को राहुल गाँधी से मिलने पहुँचे थे, माना जा रहा है कि उन्होंने ही कुछ ऐसा चक्कर चलाया कि राहुल फिर से पार्टी की कमान अपने हाथों में लेने पर राजी हो गए हैं।

Rahul-Gandhi-Cong-Loss
अभी काम पूरा नहीं हुआ है!

हुआ यूँ कि ‘आजाद’ ने राहुल बाबा को समझाया कि, “राहुल जी, आपका काम अभी पूरा नहीं हुआ है! हमारी पार्टी अभी भी कहीं-कहीं पर साँस ले रही है, अगर आप इसे छोड़कर चले जाएँगे तो कहीं पार्टी फिर से रिवाइव ना हो जाए! इसलिए आपको रहना ही होगा!”

आपने पार्टी को एक नयी ऊँचाई पर ले जाने का वादा किया था! हाँ, ये बात अलग है कि ‘डायरेक्शन’ गलत हो गया वरना आप काम तो तेज़ी से ही कर रहे हैं!” -आजाद ने राहुल गाँधी को मक्खन लगाते हुए कहा।

“मैं नहीं मानता, मुझे सबूत दो?” -राहुल बाबा ने झिड़कते हुए कहा। “राहुल जी, कर्नाटक को ही ले लीजिये! अमित शाह के कहर के बावजूद हमारी सरकार टिकी हुई है, लगता है कि ‘अब गिरी-अब गिरी’ लेकिन गिरती नहीं है! इससे बड़ा सबूत आपको क्या चाहिए! इसलिए मैं कहता हूँ कि आप अपना फैसला बदल लीजिये!” -आजाद ने अपना आखिरी दाँव चला।

उनकी बातें सुनकर राहुल को भी अपनी गलती का एहसास होने लगा और उन्होंने उसी समय फिर से अध्यक्ष बनने के लिए हामी भर दी। “आप ठीक कहते हैं, अभी तो मुझे बहुत काम करना है, पार्टी को बर्बाद करने के अभी भी बहुत चांसेज हैं!” -राहुल ने गहरी साँस लेते हुए कहा। उधर, ग़ुलाम नबी आजाद ‘सबसे बड़ा रुपैया’ फिल्म के महमूद की तरह मुस्कुराने लगे।

अब देखना दिलचस्प होगा कि राहुल बाबा अपने नये कार्यकाल में पार्टी को रिवाइव कर पाते हैं या नहीं?



ऐसी अन्य ख़बरें