चलते चलते

बाल कटवाने के पैसे नहीं थे तो शिवसेना के खिलाफ लिखकर इंजीनियर ने मुफ्त में सर मुंडवा लिया

29, Dec 2019 By Guest Patrakar

मुंबई. इंजीनियर वो प्रजाति होती है जो घर में लगी आग से भी सिगरेट जलाकर खुश हो जाती है कि, चलो, माचिस की एक तीली बच गई। हर वस्तु का अधिकतम उपयोग कैसे करना है, ये इंजीनियर से बेहतर कोई नहीं जानता।

bajrang dal1
अरुण को खोजते शिवसैनिक

इसी कला का जीता-जागता उदाहरण है अरुण पाटिल, जो वडाला में रहता है! अरुण के बाल भालू की तरह बड़े-बड़े हो गए थे लेकिन सलून जाने के लिए उसके पास पैसों की कमी थी! तभी उसने सोशल मीडिया पर वह खबर देखी जिसमें कुछ शिवसैनिकों ने उद्धव ठाकरे का मजाक उड़ाने पर एक युवक का मुंडन कर दिया था!

बस, अरुण को फ्री में बाल कटवाने का आईडिया मिल गया! उसने सोशल मीडिया पर उद्धव ठाकरे के खिलाफ लिख दिया और घर के सामने कुर्सी डालकर बैठ गया।

फ़ेकिंग न्यूज से बात करते हुए अरुण ने पूरी घटना विस्तार से बताई- “हमें घर से बहुत कम पैसे मिलते हैं! दारू, सिगरेट, मोबाइल डाटा और बाइक के पेट्रोल के खर्चे निकालने के बाद दाढ़ी या बाल कटवाने के लिए पैसे ही नहीं बचते!  इसलिए मैंने फेसबुक पर उद्धव जी और उनके बेटे आदित्य ठाकरे का मजाक उड़ा दिया!

मुझे पूरा यकीन था शिवसैनिक मुझे ढूँढते हुए मेरे घर तक जरूर आएँगे इसलिए मैं घर के बाहर कुर्सी डालकर बैठ गया! एक घंटे बाद ही दस-बारह शिवसैनिक मुझे खोजते हुए आये और मेरी दाढ़ी, मूँछ और सिर के बाल, सब साफ करके चले गये! हाँ, थोड़ी मार भी  पड़ी लेकिन पैसे तो बच गए ना!” -अरुण ने सस्ता वाला तेल टकले पर रगड़ते हुए कहा।

सूत्रों की मानें तो कुछ इंजीनियर अपने बच्चों के मुंडन का खर्चा भी ऐसे ही निकाल रहे हैं। अपने नवजात बच्चे के नाम पर फर्जी ID बनाकर उस से शिवसेना के खिलाफ अभद्र पोस्ट करते हैं और शिवसैनिक आकर मुफ्त में बच्चों का मुंडन कर जाते हैं। लगभग सभी शिवसेना के इस रवैये से खुश हैं बस कुछ सलून वालों को छोड़कर।



ऐसी अन्य ख़बरें