Friday, 23rd August, 2019

चलते चलते

"सांसद महोदय तो लट्ठमार होली की रिहर्सल कर रहे थे!" -जूता कांड पर योगी ने दी सफाई

07, Mar 2019 By Ritesh Sinha

संतकबीर नगर. शिलापट्ट में नाम ना होने की वजह से बीजेपी के सांसद शरद त्रिपाठी इतने नाराज हुए कि उन्होंने अपनी ही पार्टी के विधायक को जूतों से कूट दिया। इस घटना के बाद यूपी भाजपा की जमकर किरकिरी हो रही है। लोग ‘मेरा-बूट सबसे-मज़बूत’ जैसे जोक थोक के भाव ठेल रहे हैं।

yogi-bulandshahar
कब है होली?

ऐसे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पत्रकारों के सामने आए और डैमेज कंट्रोल में जुट गए। उन्होंने दावा किया कि सांसद महोदय तो लट्ठमार होली की रिहर्सल कर रहे थे, जिसे लोगों ने गलत समझ लिया।

योगी ने कहा कि, “देखिए! होली आने वाली है, इससे पहले अगर कोई लट्ठमार होली की रिहर्सल करना चाहता है तो मैं समझता हूँ कि किसी को परेशानी नहीं होनी चाहिए!”

आप वीडियो में साफ़ देख सकते हैं कि सांसद महोदय, विधायक पर ऐसे जूते बरसा रहे हैं जैसे वृन्दावन की नारीयाँ होली के दिन लड़कों पर लट्ठ बरसाती हैं!

..और फिर, शोले फिल्म में गब्बर सिंह जी ने हमें यही संदेश दिया है कि जितनी जल्दी हो सके होली की तैयारियों में जुट जाना चाहिए! इसलिए हमें तो सांसद महोदय का अभिनंदन करना चाहिए! तेरह दिन पहले ही उन्होंने तैयारी शुरू कर दी!”

बस, सांसद महोदय ने एक गलती कर दी कि रिहर्सल के टाइम लाठी की जगह ‘जूता’ यूज कर दिया! फिर भी उनके नेक इरादों पर हमें शक नहीं करना चाहिए!” -योगी ने आगे कहा।

उधर, जूता कांड के मुख्य पात्र ‘शरद त्रिपाठी’ से अखिलेश यादव खासे प्रभावित हुए हैं। उन्होंने त्रिपाठी जी को फोन करके कहा है कि, “आपके काम करने का तरीका हमसे मिलता-जुलता है इसलिए हमारी पार्टी में आ जाइए! आपकी असली जगह समाजवादी पार्टी में है! एक विचारधारा के लोगों को संगठित होना ही पड़ेगा!” हालाँकि सांसद महोदय ने अखिलेश के ऑफर का कोई जवाब नहीं दिया है।



ऐसी अन्य ख़बरें