Friday, 10th April, 2020

चलते चलते

आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत मनोज तिवारी अपनी 'सिक्स्थ सेंस' के इलाज के लिए बैंगलोर रवाना

16, Feb 2020 By किल बिल पांडे

नयी दिल्ली. दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी की बंपर जीत ने विरोधियों के खेमे में खलबली मचा दी है। इस जीत से सबसे ज्यादा आहत बीजेपी है, जो गोली से लेकर करंट तक की बातें कर रही थी, लेकिन अब खुद को लगे इस भयानक झटके से उबरने के जुगाड़ खोज रही है।

manoj-tiwari-ji
चलो, चली बैंगलोर!

इसी जुगाड़ के अंतर्गत, देर रात हार के कारणों पर चर्चा करने के लिए पार्टी मुख्यालय में एक गुप्त मीटिंग रखी गई थी। इस मीटिंग में सब ने एक मत में मनोज तिवारी की ‘सिक्स्थ सेंस’ को हार का ज़िम्मेदार माना है।

फ्री के लड्डू खाने में पारंगत, फ़ेकिंग न्यूज रिपोर्टर भी मीटिंग कवर करने पहुँच गए थे, बाद में उन्होंने बताया कि, “पार्टी अध्यक्ष के आते ही पहले तो सभी नेताओं में हार की जिम्मेवारी लेने की होड़ मच गयी लेकिन जब यह ऐलान हुआ कि हार के जिम्मेदार नेता को पार्टी की ओर से सख्त सजा भी मिलेगी, तो सबने हार का ठीकरा ‘रिन्किया के पापा’ पर फोड़ दिया!”

सबने एक सुर में कहा कि इसी की सिक्स्थ सेंस ने सब गुड-गोबर किया है, जीत की भविष्यवाणी करने वाली इस ‘सिक्स्थ सेंस’ की वजह से सब अति-उत्साहित हो गये कि दिल्ली के बिजली, पानी को छोड़, पाकिस्तान के गोले बारूद की बातें करने लगे। कुछ जीत के आश्वस्त उम्मीदवार और कार्यकर्ता तो वोट डालने पोलिंग बूथ तक भी नहीं गए।

अब खबर मिली है कि पार्टी आलाकमान ने मनोज तिवारी को अपने सिक्स्थ सेन्स का उपचार करवाने की सलाह जारी की है। इसी सिलसिले में तिवारी कल देर रात बैंगलोर रवाना हो गए हैं। वहाँ मौजूद आयुर्वेदिक सेंटर में जरूरत से ज्यादा एक्टिव रहने वाली इस सिक्स्थ सेंस का तसल्ली से उपचार किया जाएगा। साथ ही इस उपचार का सारा खर्चा ‘आयुष्मान भारत योजना’ के खाते में डाला जाएगा।

पार्टी के इस निर्देश से जहाँ मनोज तिवारी की सिक्स्थ सेंस ठिकाने आ जाएगी और साथ ही मोदी जी की योजनाओं का प्रचार भी हो जाएगा। जिसका बिहार और बंगाल के चुनावों में भरपूर फायदा उठाया जा सकता है।



ऐसी अन्य ख़बरें