Sunday, 8th December, 2019

चलते चलते

कांग्रेस पार्टी से बुलावा आया तो बिना चप्पल के दौड़ पड़े केजरीवाल, दरवाजे से भी टकराये

14, Apr 2019 By Ritesh Sinha

नयी दिल्ली. कल शाम को पाँच बजे की बात है, दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल जी कूलर के सामने बैठकर चाय की चुस्कियाँ ले रहे थे, तभी उन्हें मनीष सिसोदिया ने बताया कि ‘कांग्रेस पार्टी मुख्यालय से फोन आया था, वे गठबंधन के सिलसिले में मिलना चाहते हैं!’ गठबंधन की बात सुनते ही केजरीवाल जी उछल पड़े और चहकते हुए बोले- “चलो अभी चलते हैं! इस बार डील करके ही लौटेंगे!”

kajriwal
अपना माथा सहलाते मुख्यमंत्री जी

ऐसा कहते हुए उन्होंने चाय का कप फ़ेंक दिया और पास में पड़ी कमीज उठाकर पहनने लगे। वो इतनी जल्दी में थे कि कमीज की सबसे ऊपर वाली और सबसे नीचे वाली बटन लगाकर ही उन्होंने खानापूर्ती कर ली, बीच के सारे बटन खुले छोड़ दिए। ‘तन ढंकने के लिए इतना काफी है!’ -वो मन ही मन सोच रहे थे।

इसके बाद उन्होंने अपना मोबाइल उठाया और बिना चप्पल के ही बिजली की गति से घर से बाहर निकलने लगे। बस, यहीं पर केजरीवाल जी ने बहुत बड़ी भूल कर दी और सीधे दरवाजे से जा टकराये। दरअसल, वो इतने जोश में थे कि सामने की ओर देख ही नहीं रहे थे। मुख्यमंत्री जी और दरवाजे के मिलन से ‘ठक्क’ जैसी तेज़ आवाज ‘वातावरण’ में घुल गई।

उनके पीछे-पीछे आ रहे सिसोदिया ने केजरीवाल जी को संभाला और चिंतित स्वर में बोले- “अरे, देखकर चलिए! चोट तो नहीं लगी आपको?” उधर, केजरीवाल जी उस समय वही काम कर रहे थे जो इस माहौल में हर भारतीय को करना चाहिए और वो है- चोट वाली जगह पर बेदर्दी से मालिश करना!

“नहीं-नहीं मैं ठीक हूँ, ज्यादा जोर से नहीं लगी!” -केजरीवाल जी ने इशारों में कहा। सिसोदिया ने आगे बढ़कर दरवाजा खोला और दोनों आराम से घर से बाहर निकल गए। “ये मौका मैं हाथ से जाने नहीं दूँगा, चाहे इसके लिए मुझे कुछ भी करना पड़े!” -केजरीवाल जी बड़बड़ा रहे थे। कार ‘दस जनपथ’ की ओर चली जा रही थी।



ऐसी अन्य ख़बरें