Tuesday, 25th September, 2018

चलते चलते

घटते सदस्यों के चलते केजरीवाल ने लिया फ़ैसला, आम आदमी पार्टी की जगह बनाएँगे व्हाट्सएप ग्रुप

28, Aug 2018 By Guest Patrakar

नयी दिल्ली. देश की सबसे प्रचलित पार्टी ‘आम आदमी पार्टी’ इन दिनों साजिद खान की फ़िल्म दिखा रहे थीएटर की तरह हो गयी है। हर कोई पार्टी छोड़-छोड़ कर जा रहा है। इसी सिलसिले  में पिछले दिनों आशुतोष और आशीष खेतान ने भी पार्टी छोड़ दी। इस से पहले कपिल मिश्रा, प्रशांत भूषण और योगेन्द्र यादव समेत पंजाब इकाई के कई लोगों ने पार्टी का दामन छोड़ दिया था। पार्टी में घटते सदस्यों को देखते हुए पार्टी सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी को निलंबित करके उसकी जगह पर एक व्हाट्सएप ग्रुप चलाने का फ़ैसला किया है, क्योंकि व्हाट्सएप ग्रुप कम लोगों में भी चल जाती है। लेकिन अचानक लिए गए इस निर्णय के पीछे क्या कोई और वजह भी है? आइए जानते हैं-

अपनी व्हाट्सएप पार्टी को लांच करते केजरीवाल
अपनी व्हाट्सएप पार्टी को लांच करते केजरीवाल

पार्टी के लीडर अरविंद केजरीवाल ने हमसे बात करी और इस फ़ैसले की वजह बतायी। उन्होंने कहा कि “मैं चाहता हूँ कि यह इंटरव्यू जल्दी ख़त्म हो जाए क्योंकि मुझे दूसरों के फ़र्ज़ी ट्वीट को रि-ट्वीट करने भी जाना है! वैसे मैं बता दूँ कि जो लोग पार्टी छोड़ कर गए हैं उन लोगों को मैंने मैंने खुद निकाला है, वे सब मोदी के एजेंट थे। मोदी जी ने उन सबको ख़रीद लिया था ताकि अंदर की खबर उन्हें देते रहें! इसीलिए भगा दिया सबको!”

” अब मैं अपनी पार्टी बंद करके व्हाट्सएप ग्रुप चालू करने वाला हूँ! उसका नाम भी आम आदमी व्हाट्सएप ग्रुप (AAWG) ही होगा ताकि लोकतंत्र की खुशबू आती रहे! इसमें और पार्टी में ज़्यादा फ़र्क़ नहीं होगा!”

“वैसे भी हमारा सारा काम ऑनलाइन ही हो जाता था! हमने ऑनलाइन बहुत काम किया है, जैसे ही कोई बोलता था कि हमने फ़्लाइओवर क्यों नहीं बनवाए? तो हम तुरंत फोटोशॉप पर स्केच बनवाकर फ़्लाइओवर दिखा देते थे! इसलिए हमें ज़्यादा बदलाव नहीं करने पड़ेंगे। एक व्हाट्सएप ग्रुप चालाने के लिए काफ़ी ख़र्च भी होता है इसलिए हम डोनेशन बंद नहीं कर रहे हैं, ये सच्चाई की लड़ाई है! एक डिजिटल अंदाज़ में!”

इसके बाद हमने पार्टी के अन्य बड़े नेता मनीष सिसोदिया से बात की। हमने उनसे कहा कि आम आदमी पार्टी अब आम आदमियों की पार्टी नहीं रह गई है तो उनका कहना था “किसने कहा हम अब आम आदमी नहीं रहे? हम 4G नेटवर्क पर नहीं बल्कि 2G पर अपना ग्रुप चलाएँगे! HD वीडियो  की जगह 144P के वीडियो और HD फ़ोटो की जगह Bitmap फोटोज शेयर करेंगे! हम तो सिम भी BSNL की लेंगे भैया! क्योंकि हमें मालूम है कि आम आदमी कैसे जीता है? मैंने भले ही कार महँगी ले ली हो मगर हम उसमें डीज़ल 500 का ही भरवाते हैं, क्यूँकि ईमानदार सरकार है!”

“जो लोग समझते है कि उनका साथ छोड़ने से केजरीवाल ख़त्म हो जाएगा वो शायद भूल गए हैं कि केजरीवाल ख़त्म करने वालों में से हैं, होने वालों में से नहीं!” सिसोदिया ने आगे बताया।

हालाँकि घटते सदस्य केजरीवाल और अन्य बड़े नेताओ पर सवाल ज़रूर खड़े करते हैं। क्या वाक़ई आम आदमी पार्टी अब आम आदमी की नहीं रही? ख़ैर 2019 चुनाव नज़दीक आ रहे हैं,  ऐसे में यह देखना बहुत ही रोचक होगा कि क्या चुनाव आयोग केजरीवाल जी के इस व्हाट्सएप ग्रुप को चुनाव लड़ने की अनुमति देते हैं या नहीं! या एक बार फिर व्हाट्सएप को भी मोदी का एजेंट घोषित किया जाएगा!



ऐसी अन्य ख़बरें