Wednesday, 1st April, 2020

चलते चलते

बंपर जीत के बाद हरकत में आये अरविंद केजरीवाल, मंगाई धरना देने के लिए नयी फाइलें

12, Feb 2020 By किल बिल पांडे

नयी दिल्ली. मंगलवार को हनुमान जी के नकली भक्त बताने वाले असली भक्तों पर ही बजरंग बली की कृपा नहीं बरस पाई। दिल्ली विधानसभा में प्रचंड बहुमत से आम आदमी पार्टी ने एक बार फिर से जीत दर्ज कर हैट-ट्रिक पूरी कर ली है।

kejriwal
कुछ ऐसा होगा नजारा!

जहाँ पार्टी के समर्थकों में जीत को लेकर खासा जोश दिखा, वहीं जीत की घोषणा के साथ ही अपनी नई पारी की शुरुआत में ही अरविंद केजरीवाल फ्रंटफुट पर खेलते नज़र आ रहे हैं।

जनता का बधाई संदेश स्वीकारने के बाद केजरीवाल सीधे अपने ऑफिस चले गए और वो सारी फाइलें मंगवाने लगे जो धरना ना देने के कारण अटकी पड़ी हैं।

सूत्रों की मानें तो केजरीवाल देर रात तक उन सब फाइलों का मनीष सिसोदिया, राघव चड्ढा, आतिशी समेत अन्य विधायकों के साथ निरीक्षण करते रहे जिसमें धरना देने की रत्ती भर भी गुंजाईश बाकी  हो।

देर रात सी.एम. दफ्तर से निकले राघव चड्ढा ने फ़ेकिंग न्यूज़ को बताया कि, “कायदे से इतना जोश तो मुझ में और आतिशी में होना चाहिए, पहली बार कोई चुनाव जीतें हैं, हम तो पार्टी करने जा ही रहे थे कि अरविंद जी का पार्टी के व्हाट्स एप्प ग्रुप पर मैसेज आ गया और हमें यहाँ आना पड़ा। इस बार धरने की प्लानिंग को लेकर सर जी पहले से ही पूरे क्लियर हैं, सारी फाइलें मार्क कर दी हैं!”

“धरनों के टाइम, ट्रांसपोर्टेशन और केटरिंग के टेंडर की जिम्मेवारी भी पहले से ही तय कर दी गयी है, हमारे किसी नेता के रिश्तेदार को ही ये कॉन्ट्रैक्ट मिलेगा, साथ ही सारे जीते हुए विधायकों को भी धरने देने लायक मुद्दे खोजने का फरमान जारी कर दिया गया है।

एलजी साब को भी भेजे जाने वाली चिट्ठी का ड्राफ्ट तैयार है जिसमे एलजी ऑफिस के सोफे बदलने की मांग की जानी है, लास्ट टाइम सोफों पर सोने में सबको दिक्कत हुई थी, सत्येन्द्र जैन की पीठ दर्द आज तक ठीक नहीं हो पाई है! इस बार ऐसा कोई रिस्क लेना ही नहीं है!” -राघव ने शादी के लिए आ रहे फोन कॉल्स को काटते हुए कहा।

सूत्रों की मानें तो शपथग्रहण समारोह के अगले दिन ही केजरीवाल इस कार्यकाल का पहला धरना दे सकते हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें