चलते चलते

यूपी सरकार की तर्ज़ पर भोपाल में 'बाग़ी विधायकों' के पोस्टर लगवाएँगे कमलनाथ

12, Mar 2020 By किल बिल पांडे

भोपाल. कमलनाथ सरकार पर चल रहा सियासी संकट खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है, होली की सुबह से शुरू हुआ यह ड्रामा, अब कहाँ जाकर खत्म होगा, इसकी किसी को खबर नहीं है।

poster
पोस्टर छापते रहेंगे!

बड़े-बड़े राजनीतिक विशेषज्ञ इस पूरे प्रकरण को कांग्रेस की नाकामी और अपनी पिछली गलतियों से ना सीखने की आदत का नतीजा मान रहे हैं। न्यूज  एंकर भी मौके का पूरा फायदा उठाकर, कांग्रेस और ज्योतिरादित्य के ‘डीएनए विश्लेषण’ में लग गए हैं।

इस पूरे प्रकरण ने सारे न्यूज़ चैनलों को कम से एक हफ्ते तक की डिबेट का असलाह-बारूद प्रदान कर दिया है। बीजेपी से कमलनाथ ‘चाणक्य नीति’ तो नहीं सीख पाए लेकिन वो योगी सरकार के नक्शे-कदम पर चलते दिखाई दे रहे हैं।

खबर मिली है कि योगी सरकार की तर्ज पर ही, कमलनाथ सभी ‘बाग़ी विधायकों के फ़ोटो, नाम और पते के साथ पोस्टर्स व होर्डिंग्स छपवाने जा रही है।

इतना ही नहीं, कमलनाथ ने इन पोस्टर्स व होर्डिंग्स को भोपाल के हर दूसरे चौराहे पर लगवाने का भी पक्का इरादा कर लिया है। मुख्मंत्री निवास में ओवरटाइम करते एक कर्मचारी, मंगत राम ने फ़ेकिंग न्यूज को बताया कि, “देखो भई! अब लगभग यह तय हो ही चुका है कि कांग्रेस विपक्ष में बैठेगी, कमलनाथ भी मन ही मन यह सब जानते हैं लेकिन वो वह कहते हैं ना कि ‘बुझता हुआ दिया ही ज्यादा फड़फड़ाता है’ बस, इसलिए थोड़ा हाथ-पैर मार रहे हैं!”

“जब तक ‘फ्लोर टेस्ट’ नहीं हो जाता, तब तक तो वो मुख्यमंत्री हैं ही, इसलिए अंतिम समय तक अपने अधिकारों का जम कर इस्तेमाल कर रहे हैं, उन सारे विधायकों के चेहरे जनता के दिमाग में छप जाएँ, जो मौका देखकर थाली के बैंगन हो जाते हैं! यूँ तो पोस्टर और बैनर छपकर तैयार है पर अगर कोई इन्हें चिपकाने के लिए तैयार नहीं हुआ तो खुद कमलनाथ ‘कील-हथौड़ा’ लेकर इन्हें चिपकाने भी जा सकते हैं!” -मंगत राम ने ज्योतिरादित्य सिंधिया की फोटो उतारते हुए कहा।

सूत्रों के अनुसार भोपाल की जनता, दलबदलू नेताओं के पोस्टर देखने के लिए मरे जा रही है, गोलू ना का युवक तो आज काम पर नहीं गया है। वहीं देश के ज्यादातर नेता इस तरकीब के जनक, योगी आदित्यनाथ के खिलाफ़ मोर्चा खोलने की तैयारी कर रहे हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें