Tuesday, 19th November, 2019

चलते चलते

विपक्षी दल का दर्जा पाने के लिये कांग्रेस खरीदेगी कुछ सस्ते और टिकाऊ सांसद

30, May 2019 By Fake Bank Officer

नयी दिल्ली. लोकसभा में विपक्षी दल का दर्जा प्राप्त करने के लिए किसी भी पार्टी के पास न्यूनतम 55 सांसद होना ज़रूरी है लेकिन कांग्रेस के खाते में फिलहाल 52 सांसद ही हैं। ऐसे में विपक्षी पार्टी का दर्ज़ा पाने के लिये कांग्रेस पार्टी को तीन अन्य सांसदों की सख्त जरूरत है।

rahul gandhi1
पाँच भी खरीद सकते हैं…

पार्टी ने इस मुद्दे पर काम भी शुरू कर दिया है। भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में यह पहली बार हो रहा है जब बिपक्षी दल का दर्जा पाने के लिए भी सांसदों की खरीद फरोख्त हो रही है। कांग्रेस की नाज़ुक स्थिति को देखते हुए चुनाव आयोग ने भी आधिकारिक तौर पर सांसद खरीदने की अनुमति दे दी है।

वैसे तो बाजार में हर रेंज और क्वालिटी के सांसद बिक्री के लिए उपलब्ध हैं परंतु कांग्रेस को सस्ते और टिकाऊ सांसद ही चाहिए जो पांच साल तक उनका साथ दे सकें।

पहले तो कांग्रेस पार्टी ने रामविलास पासवान की ‘लोजपा’ के सांसदों को खरीदने की इच्छा जाहिर की थी लेकिन पासवान के सांसदों ने अपनी पार्टी की विचारधारा से समझौता करने से साफ इनकार कर दिया। पासवान ने बताया कि उनकी विचारधारा हमेशा ही चुनी हुई सरकार में शामिल होने की रही है और इसलिए वो कांग्रेस द्वारा दिये जा रहे लालच में नही आएंगे।

अरविंद केजरीवाल ने भी अपना एकमात्र सांसद कांग्रेस को बेचने का ऑफर दिया था जिसे कांग्रेस पार्टी ने खुद ही ठुकरा दिया है। सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस ने बसपा के सांसद खरीदने में भी दिलचस्पी दिखाई है। बसपा सुप्रीमो मायावती ने इसका स्वागत किया है और अपने सारे सांसदों को अपने कार्यालय के बाहर एक पंक्ति में खड़ा रहने का आदेश दिया है।

मायावती ने कहा कि “कांग्रेस चाहे तो आकर सांसदों को ठोक-बजा के देख ले और जो पसंद आये खरीद ले! कीमत मिल बैठ कर तय कर लेंगे और सही दाम लगा देंगे! हमारे नेता चुनाव लड़ते ही इसलिए हैं कि बाद में बिक सकें, सत्ता में नही तो विपक्ष में ही सही।”



ऐसी अन्य ख़बरें