Sunday, 26th May, 2019

चलते चलते

"यदि 'ब्लैक पैंथर' को ऑस्कर मिल सकता है तो कुछ भी हो सकता है!" -अति-उत्साहित कार्यकर्ताओं को अमित शाह ने लताड़ा

13, Mar 2019 By Ritesh Sinha

नयी दिल्ली. लोकसभा चुनाव को देखते हुए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह कल पार्टी कार्यालय में अपने कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे। शाह ने अभी बोलना शुरू ही किया था कि कुछ अति-उत्साहित कार्यकर्ताओं ने ‘अब की बार तीन सौ पार!’ के नारे लगाने शुरू कर दिए। मनोज तिवारी उनमें सबसे आगे थे।

Amit Shah 6
कुछ भी हो सकता है!

भाषण के बीच में ही यूँ नारे लगाना शाह को बिल्कुल पसंद नहीं आया। “अरे रूक जाओ भैया! मैं क्या कह रहा हूँ जरा पहले तो सुन लो!” -शाह ने सबको चुप कराने का प्रयास किया।

पार्टी अध्यक्ष के मना करने के बावजूद छुटभैये कार्यकर्ता अपनी ही धुन पर सवार थे, वे नहीं रुके।

थोड़ी देर बाद ‘शाह’ के सब्र का बाँध टूट पड़ा और उन्होंने दाँत रगड़ते हुए कहा- “ज्यादा हवा में मत उड़ो भैया, बैठ जाओ! तुम लोगों को मालूम नहीं है क्या, अभी कुछ दिन पहले ‘ब्लैक पैंथर’ को तीन-तीन ऑस्कर पुरस्कार मिल गए! जब इतनी घटिया फिलीम को ‘ऑस्कर मिल सकता है तो कुछ भी हो सकता है!”

“जहाँ मौका मिलता है ‘तीन सौ’ के नारे लगाना शुरू कर देते हो! तुम्हारे कहने से तीन सौ नहीं आ जाएँगे! क्यों जावड़ेकर जी?” -शाह ने मंत्री जी की ओर खा जाने वाली अंदाज़ में देखा।

शाह को गुस्से में देखकर सबकी सिट्टी-पिट्टी गुम हो गई और सभी थूक गटकते हुए अपनी-अपनी सीट पर बैठ गए। “यहाँ कुछ भी हो सकता है भैया, चेन्नई एक्सप्रेस जैसी फिलीम हिट हो गई थी, पता है ना! इसलिए शांति से बैठो!” -अमित शाह ने आगे कहा।



ऐसी अन्य ख़बरें